Home Uncategorized अष्टमी : आज होगी मां महागौरी पूजा, कन्या पूजन से घर आएगा...

अष्टमी : आज होगी मां महागौरी पूजा, कन्या पूजन से घर आएगा धन और सुख-शांति। अष्टमी पर सुबह श्री कालिका माता मंदिर परिसर में रंग गुलाल के बीच हुआ रंगारंग गरबा

रतलाम, 17अक्टूबर(खबरबाबा.काम)। शहर में बुधवार को महा दुर्गाष्टमी श्रद्धापूर्वक मनाई गई। अष्टमी पर मंदिरों में हवन, महाआरती सहित विभिन्न धार्मिक आयोजन हुए तो वहीं घरों में भी लोगों ने उपवास रखकर मां की आराधना की। महा अष्टमी पर घरों और मंदिरों में कन्या पूजन का आयोजन भी किया गया  । श्री कालिका माता मंदिर परिसर में अष्टमी को सुबह रंग गुलाल उड़ाकर रंगारंग गरबा  किया गया।

प्राचीन श्री कालिका माता मंदिर में अष्टमी के अवसर पर माता के दर्शन के लिए रात 3 बजे से कतार लगना शुरू हो गई थी। सुबह महाआरती के बाद मंदिर में विशेष हवन हुआ।श्री कालिका माता मंदिर परिसर में रंग गुलाल के बीच गरबा  का आयोजन भी हुआ ।

हुई मां महागौरी पूजा, कन्या पूजन से घर आएगा धन और सुख-शांति

मां दुर्गा का आठवां स्वरुप है महागौरी। नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा अर्चना की जाती है। देवी मां के आठवें स्वरूप को महागौरी के नाम से पुकारा जाता है। वैसे तो कुछ लोग नवमी के दिन भी कन्या पूजन किया जाता है, लेकिन कहा जाता है कि अष्टमी के दिन कन्या पूजन करना ज्यादा फलदायी रहता है। मां महागौरी की पूजा करने से मन पवित्र हो जाता है और भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

कहा जाता है कि भगवान शिव को पति के रूप में प्राप्त करने के लिये इन्होंने कठोर तपस्या की थी। इस दिन मां की पूजा करने से मनचाहे जीवनसाथी की मुराद पूरी होती है। मां की पूजा करने से मनचाहे जीवनसाथी की मुराद पूरी होती है। मां महागौरी के प्रसन्न होने पर भक्तों को सभी सुख स्वत: ही प्राप्त हो जाते हैं। साथ ही इनकी भक्ति से हमें मन की शांति भी मिलती है। मां की उपासना से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम की वृद्धि होती है।

यह है पूजा विधि

महागोरी की पूजा में नारियल, हलवा, पूड़ी और सब्जी का भोग लगाया जाता है। आज के दिन काले चने का प्रसाद विशेष रूप से बनाया जाता है और मां को चढ़ाया जाता है।

पूजन के बाद कराएं कन्या भोजन 

पूजन के बाद  कन्याओं को भोजन कराने और उनका पूजन करने से मां की विशेष कृपा प्राप्त होती है। महागौरी माता का अन्नपूर्णा स्वरूप भी हैं। इसलिए कन्याओं को भोजन कराने और उनका पूजन-सम्मान करने से धन, वैभव और सुख-शांति की प्राप्ति होती है।