Home रतलाम एसपी गौरव तिवारी की पहल पर रतलाम पुलिस द्वारा कंजर समुदाय, बाछंडा...

एसपी गौरव तिवारी की पहल पर रतलाम पुलिस द्वारा कंजर समुदाय, बाछंडा समुदाय और वनांचल क्षेत्र के युवाओ को कौशल उन्नयन से रोजगार उपलब्ध कराकर समाज की मुख्यधारा से जोडने का अभियान, शुक्रवार को आयोजित कैंपस में बहुराष्ट्रीय कंपनी द्वार 50 युवाओ का चयन

रतलाम, 1फरवरी(खबरबाबा.काम)। समुदायिक पुलिसिंग के तहत्‌ समाज के पिछड़े वर्ग जिसमे कंजर समुदाय, बांछडा समुदाय के लोगो को समाज की मुख्यधारा मे जोड़ने के लिये एसपी गौरव तिवारी  द्वारा  जागरूकता अभियान चलाकर इन समाज के युवाओं के रोजगार का प्रबंध भी किया जा रहा है । इसके लिए रतलाम पुलिस द्वारा मल्टीनेशनल कंपनियों से चर्चा कर कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। शुक्रवार को हुई कार्यशाला में कंजर समाज के 50 युवाओं का चयन कंपनियों द्वारा रोजगार के लिए किया गया, जिन्हें प्रशिक्षण के लिए छिंदवाड़ा भेजा जाएगा। इन युवाओं को 10 से 15 हजार रुपए तक का वेतन भी मिलेगा।

एसपी गौरव तिवारी द्वारा  16 जनवरी को थाना रिंगनोद अंतर्गत ग्राम पिपल्याजोधा मे बाछंडा समुदाय सुधार जागरूकता अभियान के तहत बाछंडा समुदाय एवं  21 जनवरी को थाना ताल अंतर्गत पंथपिपलौदा मे कंजर समुदाय जागरूकता अभियान के तहत कंजर समुदाय की बैठक ली गई थी ।   एसपी गौरव तिवारी ने बताया कि पिछले दिनो कई वारदात, जैसे लूट, वाहन चोरी,गाय ,भैस चोरी, ट्रक कंटिग के अपराधों की जांच में पाया गया कि उक्त गतिविधियों मे कंजर समाज के लोग सक्रिय है । जब भी पुलिस ने इनके गांव, डेरो पर रेड किया तो पूरा गांव बच्चो, वृद्ध, नवयुवक सब गांव छोड़कर भाग जाते थे, जबकि इनमे से कई लोग ऐसे थे, जो अपराध मे शामिल नहीं है। यह अपने आप मे बहुत बडा प्रश्नचिन्ह पुलिस के सामने खड़ा करता था कि आखिर जो लोग अपराध मे संलिप्त नही है वो क्यो भाग रहे है।

इसी तारतम्य मे एसपी गौरव तिवारी  ने कार्य योजना बनाकर कार्य करना प्रारंभ किया और ऐसे लोग जो अपराधिक छवि के नही है, उन्हे पुलिस से डरने की जरूरत नहीं है। जनसंवाद केदौरान युवाओ ने बताया कि पुलिस जब समुदाय के किसी युवा को पकड़ती है तो सारे अपराध उस पर डाल देती है या झूठे अपराध भी कायम कर देती है या जो लोग शामिलनहीं है उनको भी अपराधी बना देती है। इसलिये हम लागे डर के भागते है। इस सम्बंध मे पुलिस अधीक्षक द्वारा उनके आश्वस्त किया गया कि जो भी बेकसुर लोग है, उनको भागने व डरने की कोई जरूरत नहीं है, और किसी भी तरह के अपराध से बचना भी है।

रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का प्रयास 

समाज के युवा वर्ग के लोगों मे   एक समस्या बताई की रतलाम व आस पास जो कंजर समुदाय से आते है, उनको रोजगार देने के लिये कोई तैयार नही होता है। इसे देखते हुए रतलाम पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी  द्वारा एक पहल शुरू की ताकि इन समुदाय के लोगो को रोजगार उपलब्ध कराया जा सके। इसके लिये स्किल डेवलपमेन्ट के तहत्‌ एल.एण्ड.टी.,सापूरजी, पालनजी, वोल्टास, ताज ग्रुप, आई.टी.सी., कंमिस इंडिया एवं आई.सी.आई.सी.आई. फाउण्डेशन आदि से सम्पर्क किया गया कि इन कंपनियो द्वारा कौशल उन्नयन से नवयुवको को रोजगार दिया जाये। जिसमे सबसे पहले एल.एण्ड.टी. के द्वारा सहमति दी गई, और इसी तारतम्य मे आज  01 फरवरी  को एल.एण्ड.टी. से श्री कमल कुमार चन्द्रवंशी, राज्य समन्वयक, एल.एण्ड.टी. आये थे। जिसमे कंजर समाज के ऐसे युवक जो बेरोजगार है पढ़ना छोड चुके है, चाहे वह 5वी, 8वी, 10वी, 12वी या आई.टी.आई किये है, उन सबको रोजगार उपलब्ध कराने हेतु निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जायेगा। जो युवा आज चयनित हुये, उनको प्रशिक्षण हेतु एल.एण्ड.टी. के स्किल सेन्टर, जिला छिंदवाडा मे 06.02.19 को पहुंचना है।जहां निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जायेगा, रहना व खाना सब निःशुल्क होगा। इनकी योग्यता व प्रशिक्षण के बाद शत प्रतिशत रोजगार उपलब्ध कराया जायेगा। इनकी कम से कम 10 हजार रूपये से 16 हजार रूपये तक मासिक आमदनी होगी। जहां भी इनको रोजगार दिया जायेगा वहां आवास व अन्य सुविधाएँ अलग से मिलेगी, और इनको बहुराष्ट्रीय कम्पनियों मे कार्य करने का अवसर मिलेगा । इनको देश के विभिन्‍न क्षेत्रो मे कार्य करने हेतु भेजा जायेगा ।

दिनांक 02 फरवरी  को बांछडा समाज के लोगो के लिये कैम्प रखा गया है, जो थाना रिंगनोद अंतर्गत ग्राम परवलिया मे एल.एण्ड.टी. कंपनी द्वारा युवाओ को चयनित किया जायेगा। एल.एण्ड.टी. कंपनी द्वारा इन चयनित युवाओ को निःशुल्क प्रशिक्षण देकर शत प्रतिशत रोजगार उपलब्ध कराया जायेगा।

रतलाम के वनांचल क्षेत्र सैलाना अनुभाग की सबसे बडी समस्या थाना सैलाना, ‘सरवन, रावटी, बाजना, शिवगढ़ आदि क्षेत्रो जो कि आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र है। यहां के लोग मजदुर के रूप ठेकेदारों के माध्यम से क्षेत्र छोड़कर गुजरात, राजस्थान मजदुरी करने जाते है। जहां इनका आर्थिक शोषण तो होता ही है, कई बार महिलाएँ भी शोषण का शिकार होती है। महिला अपराधों की समीक्षा की गई तो थाना सैलाना,सरवन, बाजना, रावटी व शिवगढ़ मे नाबालिग बालिकाओं को बहला फुसलाकर भगा ले जाने की सबसे अधिक अपराध इन थाना क्षेत्रो मे दर्ज पाये गये। साथ ही नाबालिग बालिकाएँ जिनका  शोषण हुआ हो उनकी भी सबसे अधिक शिकायते इन्ही थाना क्षेत्रो से आई है। इसको देखते हुए पुलिस अधीक्षक  द्वारा पलायान रोकने और महिला अपराधों की रोकथाम हेतु यह प्रयास किया गया की इनको बहुराष्ट्रीय कंपनियो मे कार्य करने का अवसर दिया जाये, क्योकि यह लोग काफी मेहनती व ईमानदार होते है। लेकिन इनके अंदर स्किल ना होने के कारण यह मजदुरी करते है। इनको अगर 3-4 माह स्किल ट्रैनिंग दी जाये तो यह जरूर किसी बहुराष्ट्रीय कंपनी मे अच्छा रोजगार पा सकते है, जहां यह सम्मानजनक जीवन यापन कर सकेगें और अभी जहां यह 5-6 माह मजदुरी करने पर 10 से 15 हजार रूपये पाते है।

वहां इन्हे एक माह मे ही 10-15 हजार रूपये मिलने लगेगें। इसी तारतम्य मे दिनांक 3 फरवरी  को सैलाना अनुभाग के आदिवासी क्षेत्र मे केम्प लगाया जायेगा। जिसका स्थान शिवगढ़ होगा। इसमे ऐसे युवक / युवतिया जो कि रोजगार के अवसर ढूंढ रही है चाहे वो 5वी, 8वी, 10वी, 12वी या आईटीआई. पढ़े हो, उनको भी एल.एण्ड.टी. द्वारा निःशुल्क प्रशिक्षण देकर शत प्रतिशत रोजगार दिलाया जायेगा।

इसी तारतम्य मे दिनांक 02.02.19 को सायंकाल पुलिस लाईन मे भी कैम्प लगाया जायेगा जिसमे पुलिस परिवार, होमगार्ड, जेल विभाग, वन विभाग से सम्बंधित अधि. / कर्म. के बच्चे जो पढ़ाई छोड़ चुके है या 5वी, 8वी, 10वी, 12वी या आईटीआई. पढकर रोजगार के अवसर तलाश रहे है। उनके लिये भी केम्प रहेगा। जो केम्प मे शामिल होकर फायदा उठा सकते है।

आज दिनांक 01 फरवरी  को थाना ताल अंतर्गत ग्राम पंथ पिपलौदा कंजर डेरा मे (कौशल उन्नयन से रोजगार के अवसर) केम्प लगाया गया । जिसमे रतलाम, देवास व आस पास के क्षेत्रो से कंजर समुदाय के युवा शामिल हुए । कार्यकम मे पुलिस अधीक्षक द्वारा समाज की छवि, अपराध को छोडने, नशा छोड़ने इन सभी बुराईयो को छोड़ते हुए अपना नया जीवन शुरू करने के सम्बंध मे एवं उनके लिये रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने हेतु एल.एण्ड.टी. कंपनी के माध्यम से बहुराष्ट्रीय कंपनियो मे नौकरी दिलाने हेतु कैम्प ‘लगाया।  एल.एण्ड.टी. कंपनी के राज्य समन्वयक श्री कमल कुमार चन्द्रवंशी द्वारा कंजर समुदाय के युवा वर्ग की कांउसलिंग की गई व उन्हे एल.एण्ड.टी. कंपनी द्वारा दिये जाने वाले निःशुल्क प्रशिक्षण, प्रशिक्षण के दौरान रहना व खाना भी निःशुल्क व प्रशिक्षण उपरांत शत प्रतिशत रोजगार दिलाने के सम्बंध मे भी बताया | काउसलिंग के माध्यम से कंजर समुदाय के 50 युवाओ का चयन किया गया है। जिन्हे दिनांक 06.02.19 को कौशल उन्नयन के लिये निःशुल्क प्रशिक्षण हेतु जिला सफल जायेगा |