Home मध्यप्रदेश कलेक्टर पहुंची सैलाना सहकारी बैंक में ,ऋण माफी के लिए गुलाबी...

कलेक्टर पहुंची सैलाना सहकारी बैंक में ,ऋण माफी के लिए गुलाबी आवेदनों के निपटारे का निरीक्षण किया

रतलाम 21 दिसम्बर 2019/ कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान शनिवार को सैलाना पहुंची, वहां जिला सहकारी केंद्रीय बैंक की शाखा में जय किसान फसल ऋण माफी योजना के तहत पिंक 1, पिंक 2 आवेदनों के निपटारे की कार्यवाही देखी। जिले में योजना के प्रथम चरण में शेष रहे गुलाबी आवेदनों के निपटारे की कार्रवाई तेजी से की जा रही है। इस कार्य को आगामी 15 जनवरी तक पूर्ण कर लिया जाकर प्रथम चरण के शेष किसानों को ऋण माफी लाभ दिया जाएगा।

अपने निरीक्षण में कलेक्टर ने सहकारी बैंक सैलाना शाखा के प्रबंधक को निर्देश दिए कि जिन किसानों को शाखा में बुलाया जाना है उनको 1 दिन पूर्व कॉल किया जाए ताकि किसान अपने डॉक्यूमेंट की तैयारी के साथ शाखा में आ सके। शाखा में कार्य की गति धीमी थी, कलेक्टर द्वारा तेजी से कार्य के निर्देश शाखा प्रबंधक को दिए गए।

सैलाना की सहकारी बैंक शाखा में 800 से ज्यादा उन गुलाबी आवेदनों का निपटारा चल रहा है जो प्रथम चरण में निराकृत होने से बचे हैं। इस कार्य के लिए आगामी 15 जनवरी की समय सीमा पूरे जिले में तय की गई है। इसके बाद प्रथम चरण के बचे किसानों को भी ऋण माफी लाभ मिल जाएगा। जो किसान अपरिहार्य कारणों से बैंक शाखा नहीं आ पाएंगे, उनके लिए जनपद पंचायतों में कैंप भी लगाए जाएंगे वहां उनके गुलाबी आवेदनों का निराकरण किया जाएगा। सहकारी बैंको के साथ ही राष्ट्रीयकृत एवं ग्रामीण बैंको द्वारा भी पिंक 1, पिंक 2 आवेदनों का निराकरण करने हेतु किसानो को बैंक शाखा में मय दस्तावेज बुलाया जा रहा है।

कलेक्टर ने सैलाना शाखा में निरीक्षण के दौरान पिंक 1, पिंक 2 आवेदनों का निराकरण देखा, संबंधित पंजी का निरीक्षण किया। उल्लेखनीय है कि पिंक 1के तहत वे प्रकरण है जो संबंधित बैंक के द्वारा मूल जानकारी के समय उपलब्ध नहीं कराए गए थे परंतु हितग्राही द्वारा यहां आपत्ति कराई गई कि उसके नाम से बैंक ऋण है। इन प्रकरणों में भी हितग्राही के आवेदन पर बैंक द्वारा उत्तर दिया जाना है। इसी प्रकार पिंक 2  में आवेदन वर्गीकृत होने के मुख्य कारण जैसे मूल आवेदक की मृत्यु हो जाना, संबंधित हितग्राही के आधार नंबर उपलब्ध ना होना, किसी राशि पर आवेदक द्वारा कोई आपत्ति उठाई जाना इत्यादि शामिल है । इसका निराकरण संबंधित बैंक अपने नियमों के तहत करेगी।