Home रतलाम किसानों को अतिवृष्टि या अन्य कारणों से जो भी फसल नुकसान होगा...

किसानों को अतिवृष्टि या अन्य कारणों से जो भी फसल नुकसान होगा सर्वेक्षण पश्चात राहत राशि दी जाएगी, प्रभारी मंत्री श्री सचिन यादव आपकी सरकार आपके द्वार शिविर में सम्मिलित हुए

रतलाम 29 अगस्त 2019/ किसानों की भलाई के लिए राज्य शासन लगातार कार्य कर रहा है। कर्ज माफी जैसी बड़ी योजना किसानों के लिए ही बनाई गई है । इस चरणबद्ध योजना के द्वितीय चरण में शीघ्र ही बचे हुए किसानों के लिए कर्ज माफी की जाएगी। अतिवृष्टि से किसान चिंतित नहीं हो, अतिवृष्टि अथवा किसी भी कारण से फसल को नुकसान होने पर राज्य शासन सर्वेक्षण पश्चात राहत राशि देगा, इसके लिए कलेक्टरों को आदेश जारी किए गए हैं। यह बात प्रदेश के किसान कल्याण एवं कृषि विकास उद्यानिकी मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री सचिन यादव ने आज जिले के आलोट में आयोजित आपकी सरकार आपके द्वार कैंप में संबोधित करते हुए कही। इस अवसर पर आलोट विधायक श्री मनोज चावला, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री प्रमेश मईडा, श्री राजेश भरावा, श्री डी.पी. धाकड़, श्री वीरेंद्रसिंह सोलंकी, श्री मनोज चावला, श्री निजाम काजी, कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान, पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी आदि उपस्थित थे। शिविर में 1340 आवेदन प्राप्त हुए, जिनमे से 117 आवेदनों का निराकरण किए गए, निराकरण का सिलसिला सतत जारी था।

कार्यक्रम में प्रभारी मंत्री द्वारा विभिन्न शासकीय योजनाओं के हितलाभ हितग्राहियों को वितरित किए गए। प्रभारी मंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि जय किसान फसल ऋण माफी योजना के प्रथम चरण में प्रदेश के 20 लाख किसानों के कर्ज माफ किए गए, इसमें डिफाल्टर किसानों और चालू खाता किसानों सहित सभी किसानों के ऋण माफ किए जा रहे हैं। चिन्हाकित किसानों की सूचियों में गड़बड़ी पाए जाने पर शासन द्वारा संबंधित अधिकारियों, कर्मचारियों के विरुद्ध एफआईआर तथा निलंबन जैसी कार्रवाईयां की जा रही हैं। किसानों मजदूरों के पुत्र-पुत्रियों को खाद्य प्रसंस्करण इकाइयां स्थापना के लिए क्लस्टर बनाकर 1 एकड़, आधा एकड़ भूमि लीज पर उपलब्ध कराई जाएगी, उनको वित्तपोषित किया जाएगा। इसके लिए 100 करोड रुपए बजट का प्रावधान किया गया है। खेती की लागत कम करने के लिए शासन द्वारा सशक्त प्रयास किए गए हैं। किसानों को गेहूं विक्रय पर 160 रूपए प्रति क्विंटल प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। इसके लिए शासन द्वारा सोलह सौ करोड रुपए का प्रावधान किया गया है। मक्का विक्रय पर प्रति क्विंटल रूपए 250 तथा प्याज बिक्री पर रूपए 8 प्रति किलो राशि दी जाएगी। प्याज उत्पादकों के लिए प्रोत्साहन राशि है तो 145 करोड रुपए का प्रावधान किया गया है, किसानों का बिजली बिल आधा किया गया है। राज्य शासन द्वारा अब तक अपने अल्पसमय के कार्यकाल में उल्लेखनीय कल्याणकारी कार्य किए गए हैं इसमें कन्या विवाह के लिए 51000 रूपए तथा पेंशन राशि दुगनी करने जैसे कार्य सम्मिलित है। आगामी समय में 1000 रूपए प्रति हितग्राही पेंशन राशि दी जाएगी। कार्यक्रम में विधायक श्री मनोज चावला ने भी संबोधित करते हुए राज्य शासन की किसानों तथा प्रत्येक वर्ग के लिए कल्याणकारी नीति का जिक्र किया। आलोट शिविर में प्रभारी मंत्री श्री सचिन यादव ने कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान तथा अन्य अधिकारियों के साथ ग्रामीणजनों से रूबरू होकर उनकी समस्याएं सुनी तथा निराकरण के निर्देश विभागों को जारी किए।

शिविर में प्रभारी मंत्री ने ग्राम कराडिया के रमेश पिता कचरू को 30 हजार रूपए आर्थिक सहायता राशि उसकी भैंस की प्राकृतिक आपदा में मृत्यु पर प्रदान किए। ग्राम मूंज के किसान प्रहलादसिंह तथा ददियाखेड़ी के कालूराम चौहान को स्पॉयलर सीड ग्रेडर वितरण किए। ग्राम बरडियाराठौर के केदार प्रजापत को व्हील चेयर, ग्राम पाटन के मोहनदास को वृद्धावस्था पेंशन, ग्राम खजूरीसोलंकी के मदनसिंह को निःशक्त पेंशन का लाभ वितरण किया। कार्यक्रम का संचालन श्री आशीष दशोत्तर ने किया। शिविर में विभिन्न शासकीय विभागों द्वारा अपने स्टॉल लगाकर आमजन को शासकीय योजनाओं की जानकारी दी गई।