Home रतलाम चोरी के मोबाइल को वेबसाइड पर बेचने का प्रयास, सात लाख के...

चोरी के मोबाइल को वेबसाइड पर बेचने का प्रयास, सात लाख के 50 मोबाइल बरामद

रतलाम(खबरबाबा.काम)। आपरेशन आनंदम के चतुर्थ चरण में रतलाम पुलिस ने सात लाख की किमत के करीब 50 गुम और चोरी हो चुके मौबाइल बरामद कर रविवार को उनक असली मालिकों को सौंपे। अपना मोबाइल वापस पाकर सभी के चेहरों पर मुस्कान छा गई। एसपी अमित सिंह ने बताया कि अभी तक रतलाम पुलिस 30 लाख किमत के 200 मोबाइल बरामद कर लौटा चुकी है। पुलिस के अनुसार इस बार बरामद मोबाइल में से कुछ तो विक्रय के प्रयास में वेबसाइड पर रजिस्टर्ड हो चुके थे। पुलिस इस मामले में भी जांच कर रही है।
रविवार को पुलिय नियंत्रण कक्ष पर एसपी अमित सिंह और नवागत एएसपी प्रदीप शर्मा ने बरामद मोबाइलों को उनके मालिकों को सौंपा। अपने गमु या चोरी हुए मोबाइल मिलने की आशा छोड़ चुके इन लोगों के चेहरों पर मोबाइल मिलते ही खुशी दिखाई दी। कोई पुलिस को गुलदस्ता भेंट कर शुक्रिया अदा कर रहा था तो कोई पुरस्कार देकर।
गोवा और यूपी तक से मोबाइल बरामद
एसपी अमित सिंह ने बताया कि मोबाइलों की जांच में अधिकंश मोबाइल गुम होने संबधी तथ्य आए है। गुम हुए मोबाइल मध्य प्रदेश के धार, मंदसौर, नीमच , खरगोन सहित यूपी के मथुरा, गोवा, और राजस्थान के कोटा से मोबाइल बरामद किए गए है। जिन लोगों से मोबाइल बरामद किए गए उनमें से अधिकांश ने मोबाइल रोड पर से मिलना बताया। चोरी संबधी साक्ष्य मिलने पर 3 शिकायतों में अपराध भी पंजीबध्द किए गए है।
विक्रय के लिए वेबसाइड पर रजिस्टर्ड
एसपी अमित सिंह ने बताया कि गुम और चोरी हुए मोबाइल की जांच के दौरान यह तथ्य भी सामने आया कि कुछ लोगों द्वारा एक व्यावसायिक वेबसाइड पर मोबाइल को रजिस्टर्ड कर विक्रय का प्रयास किया जा रहा था। इस मामले में भी जांच की जा रही है।
अभी तक 30 लाख के 200 मोबाइल बरामद
एसपी अमित सिंह ने बताया कि जनवरी 2017 से आपरेशन आनंदम के तहत गुम और चोरी हुए मोबाइल को बरामद कर उन्हे असली मालिकों को सौंपने का अभियान चलाया जा रहा है। चतुर्थ चरण में सात लाख के 50 मोबाइल बरामद कर रविवार को उनके मालिकों को सौंपे गए। जनवरी से अभी तक रतलाम पुलिस ने 30 लाख के करीब 200 मोबाईल बरामद कर चुकी है।
युवक ने स्वंय ट्रेक किया मोबाइल, दिया पुरस्कार
एसपी अमित सिंह ने बताया कि जो लोग मोबाइल का उपयोग करते है, उन्हे उसके फीचर्स भी जानना चाहिए। उन्होने तेजानगर निवासी वैभव शर्मा का उदाहरण देते हुए बताया कि मोबाइल गुम होने पर वैभव ने साइबर जागरुकता का परिचय देते हुए अपना मोबाइल स्वंय ट्रेक किया और पुलिस को सूचना दी। एसपी ने वैभव को एक हजार रुपए का नगद पुरस्कार और प्रमाण पत्र भी दिया।इस मौके पर एएसपी प्रदीप शर्मा, सीएसपी विवेकसिंह चौहान भी मौजुद थे।
टीम को पांच हजार का पुरस्कार
मोबाइल को बरामद करने में साइबर सेल के प्रधान आरक्षक लक्ष्मीनारायण सूर्यवंशी, आरक्षक मनमोहन शर्मा, रितेश सिंह, हिम्मतसिंह की भूमिका रही। एसपी ने इन्हे पांच हजार का पुरस्कार देने की घोषणा की।