Home मध्यप्रदेश जावरा में अलग अंदाज में नजर आए सीएम शिवराजसिंह चौहान, भावनात्मक रुप...

जावरा में अलग अंदाज में नजर आए सीएम शिवराजसिंह चौहान, भावनात्मक रुप से जनता को अपने साथ जोड़ा।हाथ से हाथ मिलाकर दिलाया जमाना बदलने का संकल्प ।बिजली सबंधीत मुकदमें वापस लेने की घोषणा-

रतलाम, 11जुलाई(खबरबाबा.काम)। बुधवार को जिले के जावरा में हुए मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के दौरे में आगामी विधानसभा चुनाव की झलक साफ देखने को मिली जावरा दौरे में सीएम एक नए अंदाज और नई शैली में देखने को मिले ।हर बार की तरह उनके भाषण में एक ही तरह के रटे रटाए डायलाग नहीं थे ,बल्की सीएम अलग तरिकों के साथ अपने भाषण में जनता से भावनात्मक रुप से और ज्यादा प्रभावी रुप से जुड़ते दिखे।

संबोधन की शुरुआत में ही उन्होने मंदसौर और अन्य स्थानों पर मासुमों के साथ हुए दुष्कर्म के मामलों में फांसी की सजा की बात कहते हुए एसी दरिंदगी करने वालों के सामाजिक बहिष्कार का संकल्प दिलाया ,वहीं संबोधन के अंत में हाथ से हाथ मिलाकर उपस्थित सभी लोगों को जमाना बदलने का संकल्प भी दिलाया। सीएम ने यह भी कहा कि प्रदेश के खजाने पर सबसे पहला हक गरीबों का है । सीएम के इस नए अंदाज में उपस्थित हजारों की भीड़ भी प्रभावित दिखी।

जावरा विधायक की तारीफ की

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का जावरा दौरा कई मायनों में महत्वपूर्ण था।श्री चौहान ने जावरा के कार्यक्रम में उमड़ी भीड़ से खुश दिखाई दिए।वहीं उन्होंने जावरा विधायक डॉ राजेन्द्र पांडेय की तारीफ की।अपने भाषण के अंत मे डॉ पांडेय की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने क्षेत्र में बहुत काम कराए है और आगे भी कराएंगे।अभी भी काम की चिंता की है।कुछ काम अभी स्वीकृत किये है कुछ बाद में करेंगे।आगे भी राजेन्द्र जी को अच्छे मतों से जिताओगे।मुख्यमंत्री के इस कथन पर भीड़ ने भी हुंकार भरी।इस परिदृश्य से स्पष्ट हो गया है कि जावरा विधानसभा क्षेत्र से डॉ पांडेय फिर से भाजपा के उम्मीदवार हो सकते है।

सरल बिजली बिल तथा बकाया बिजली बिल माफी योजना के 59 हजार 784हितग्राही लाभान्वित

मुख्यमंत्री द्वारा जावरा में आयोजित मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना (संबल) के राज्य स्तरीय कार्यक्रम के तहत जिले के विद्युत उपभोक्ताओं के 23 करोड 12 लाख 75हजार रुपए की बकाया बिजली बिल राशि मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल राशि योजना के तहत माफ की जाकर जिले के 59 हजार 784हितग्राहियों को लाभान्वित किया गया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर 5800 करोड रुपए से भी ज्यादा लागत की बिजली परियोजनाओं तथा बिजली उपकेन्द्रों का भूमिपूजन तथा लोकार्पण किया। इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश के उर्जा मंत्री पारस जैन ने की। विशिष्ठ अतिथियों के रुप में सांसद सुधीर गुप्ता, विधायक एवं राज्य योजना आयोग उपाध्यक्ष चेतन्य काश्यप, विधायक राजेन्द्र पाण्डेय, विधायक मथुरालाल डामर,विधायक जितेन्द्र गेहलोत, विधायक श्रीमती संगीता चारेल, मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया, मल्हारगढ़ विधायक जगदीश देवड़ा, जिला पंचायत अध्यक्ष प्रमेश मईड़ा,देवीलाल धाकड़, कान्हसिंह चौहान,रतलाम महापौर डा. सुनीता यार्दे, म.प्र. उर्जा विभाग के प्रमुख सचिव आईपीएस केसरी,प्रमुख सचिव नवीन एवं नवकरणीय उर्जा मनु श्रीवास्तव, म.प्र. पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के मुख्य प्रबंधक संचालक आकाश त्रिपाठी तथा म.प्र. पावर ट्रांसमिशन कम्पनी के प्रबंध संचालक, कलेक्टर श्रीमती रूचिका चौहान, एसपी गौरव तिवारी ,एडीएम डा.  कैलाश बुंदैला, एएसपी डा. राजेश सहाय, जावरा सीएसपी आशुतोष बागरी उपस्थित थे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के उद्बोधन का सीधा प्रसारण प्रदेश के सभी जिलों में हुआ।

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने इस अवसर पर सौभाग्य योजना के तहत उज्जैन संभाग के शत-प्रतिशत घरों में बिजली उपलब्धता घोषित की। मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम में एनटीपीसी द्वारा मंदसौर जिले के सुवासरा में निर्मित 1502.77 करोड रुपए की लागत से निर्मित 250 मेगावाट के सोलर प्लांट का लोकार्पण, मध्यप्रदेश पारेषण कम्पनी द्वारा81.92 करोड रुपए लागत से निर्मित 220केव्ही के सुवासरा उपकेन्द्र का लोकार्पण,मंदसौर जिलेो के सीतामऊ में 435.26 करोड रुपए की लागत से निर्मित 400 केव्ही के उपकेन्द्र का शिलान्यास भी किया। रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लि. द्वारा 66.37 करोड रुपए की लागत से निर्मित 33/220 केव्ही पुलिंग उपकेन्द्र गुजरख्ोडी का लोकार्पण तथा नीमच जिले के सिंगोली में निंर्मित 1800 करोड रुपए की लागत के 450 मेगावाट पावर प्लांट का लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रसन्नता की बात है कि उज्जैन संभाग में शत-प्रतिशत बिजली कनेक्शन कर दिए गए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चियों से दुष्कर्म के अपराधियों को फांसी की सजा का प्रावधान किया है। ऐसे नरपिशाचों को जीने का कोई हक नहीं है, इन्हें फांसी होनी ही चाहिए।ऐसे नर-पिशाचों का बहिष्कार करें। आपने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्यायजी के दर्शन को आत्मसात कर हम गरीबी दूर कर रहे हैं। इसके लिए हमने मुख्यमंत्री जनकल्याण (संबल) शुरू की है, जिससे आपको शिक्षा, स्वास्थ्य, आवास सहित सामाजिक सुरक्षा के लिए सभी प्रकार की सुविधाएं दी जा रहीं हैं।

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि गरीब के भी बच्चे पढ़ सकें, अपनी प्रतिभा के बल पर ऊंचे पदों पर पहुँच सकें इसलिए उनकी शेक्षणिक फीस सरकार भरेगी। कोई गरीब बच्चा होटल में काम करने या पत्थर तोड़ने के लिए मजबूर नहीं होगा। उन्होंने कहा कि कहा कि पेड़ हमें प्राणदायी ऑक्सीज़न देते हैं। अपने हिस्से की ऑक्सीज़न की व्यवस्था तो हम करें, इसके लिए कम से कम एक पेड़ अपने आस-पास लगाने का संकल्प हम लें। हमारे प्रयासों से ही मध्यप्रदेश देश का उत्कृष्ट राज्य बन सकेगा। बेटियों के सम्मान, गरीब और वंचित वर्ग के कल्याण के लिए काम करने का संकल्प लेकर मध्यप्रदेश के विकास में अपना पूरा योगदान दें। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कार्यक्रम में मुख्यमंत्री जनकल्याण (संबल) के लाभार्थियों को सरल बिजली बिल तथा बकाया बिजली बिल माफी योजना और अन्य हितग्राहियों को विभिन्न शासकीय योजनाओं के हितलाभ प्रमाण पत्र प्रदान किए।

अब गरीब को गरीब की नजर से नहीं देखा जाएगा

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि मेहनतकश मजदूरों अब आप मजबूत हो, मजबूर नहीं। श्री चौहान ने कहा कि मेहनत करने वाले मेहनतकश मजदूर अब आप मजबूत किया जा रहा है। सरकार ने गरीबों के लिए 1रुपए किलो की दर से गेहूं, चावल की व्यवस्था की है ताकि कोई भी गरीब 1 दिन की मजदूरी करके पूरे महीने भर का राशन खरीद सके।

अब कोई भी भाई-बहन बिना जमीन के पट्टे के नहीं रहेंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में कहा कि प्रदेश में कोई भी गरीब बिना जमीन के पट्टे के नहीं रहेगा। किसी भी गरीब को जमीन के बगैर नहीं रहने दिया जाएगा। वर्ष 2022 तक हर गरीब को पक्का मकान उपलब्ध कराया जाएगा। आगामी 4 वर्ष तक प्रधानमंत्री आवास निर्माण का कार्य जारी रहेगा। एक वर्ष में एक लाख मकानों का निर्माण किया जाएगा। इस तरह 4 वर्ष में चार लाख मकानों का निर्माण होगा। अभी वर्तमान में प्रदेश में 17 लाख प्रधानमंत्री आवासों का निर्माण हो चुका है,आवास, गरीबों को वितरित किए जा चुके हैं।

 

बच्चों को पढ़ाने की चिंता ना करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आपके बच्चों को पढ़ाने की चिंता सरकार करेगी। बच्चों को पढ़ाने में किसी प्रकार की कोताही ना बरतें,अगर आपके पास पढ़ाने की क्षमता नहीं है तो चिंता करने की जरूरत नहीं है। उन बच्चों की फीस सरकार भरेगी, बच्चों का एडमिशन,कोचिंग की व्यवस्था, बच्चा चाहे किसी भी कॉलेज-स्कूल में एडमिशन ले, सारी फीस सरकार भरेगी। अब प्रदेश के बच्चे पढ़ेंगे, हम सब मिलकर यह संकल्प लें कि हम सब बच्चों को पढ़ाएंगे और आगे बढ़ाएंगे।

बच्चे के जन्म के पूर्व 4 हजार, जन्म के पश्चात 12 हजार रुपए बहनों को दिए जाएंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में ऐसी गरीब महिलाएं जो मेहनत मजदूरी करती हैं,उनकी जब डिलीवरी होती हैं तो सुकून से बच्चे का पालन-पोषण नहीं कर पाती हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए प्रदेश सरकार ने ऐसी बहनें जो गर्भवती है उनको डिलीवरी से पूर्व 4 हजार रुपए दिए जाएंगे जिससे वह घर पर बैठकर आराम कर सके, अच्छा पौष्टिक आहार ले सकें,डिलीवरी के पश्चात 12 हजार रुपए दिए जाएंगे जिससे बच्चे का पालन-पोषण सही ढंग से कर सके ताकि बच्चा किसी भी कुपोषण से ग्रस्त ना हो। अब बहनों को किसी भी प्रकार का संकट का सामना करने नहीं दिया जाएगा। सरकार ने ऐसी बहनें जो सरकारी सेवा में हैं, उनके लिए 6महीने का मातृत्व अवकाश प्रदान किया है जिससे वह अपने बच्चों का सही तरीके से पालन-पोषण कर सकें।

श्रमिकों के कोर्ट में चल रहे बिजली प्रकरण खत्म कर दिए जाएंगे

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि बिजली के बिल को किसानों के लिए फांसी का फंदा नहीं बनने दूंगा। ऐसे श्रमिक भाई-बहन जो बिजली का बिल नहीं भर पाते हैं तो उनके ऊपर बिजली संबंधित कई प्रकार के प्रकरण, केस, मुकदमा कायम हो जाते हैं और इसी को लेकर वे कोर्ट में आए दिन चक्कर लगाते रहते हैं। ऐसे सारे प्रकरण मुकदमे समाप्त कर दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि गरीबों के घर पर बिजली के बहुत ज्यादा बिल आते थे और गरीब उन बिल का भुगतान नहीं कर पाता था,ऊपर से गरीबी की हालत, ऐसी स्थिति में गरीब इन लंबे-चौड़े बिलों का भुगतान कैसे करें, इसको ध्यान में रखते हुए बिजली बिल माफी योजना सरकार के द्वारा लाई गई जिसमें उन गरीबों के बिल सारे माफ कर दिए हैं और तो और अब गरीबों को प्रतिमाह मात्र 200 रुपए बिजली बिल का भुगतान करना पड़ेगा। बिल माफी के लिए गरीबों को परेशान होने की जरूरत नहीं है,जगह-जगह शिविर लगाकर उनके बिल माफ किए जाएंगे। इन शिविरों में गरीबों को जीरो रुपए बैलेस का बिजली बिल का प्रमाण पत्र भी वितरित किया जाएगा।

प्रदेश का कोई भी गरीब बिना इलाज के नहीं रहेगा

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि इलाज के अभाव में कई गरीब ऐसे हैं जिनकी मृत्यु हो जाती हैं क्योंकि वह बीमारी का इलाज नहीं करा पाते, अब प्रदेश सरकार द्वारा गरीबों का मुफ्त में इलाज कराया जा रहा है,गंभीर से गंभीर बीमारी का भी फ्री इलाज कराया जाएगा।

श्रमिक की मृत्यु होने पर 2 लाख रुपए,एक्सीडेंट मृत्यु पर 4 लाख की सहायता राशि दी जाएगी

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि श्रमिक की मृत्यु हो जाने पर घर की स्थिति बहुत बुरी हो जाती है, इसको ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री जन कल्याण योजना के माध्यम से मृत्यु पर परिवार को 2 लाख की सहायता राशि एवं दुर्घटना में मृत्यु पर 4 लाख रुपए की सहायता राशि उपलब्ध कराई जाएगी, ताकि गरीब की जिंदगी की गाड़ी सही तरीके से चल सके। उन्होंने कहा कि स्व-सहायता समूह के माध्यम से गरीबों को रोजगार प्रदान किया जाएगा और इसके लिए एक व्यापक कार्यक्रम भी तैयार किया जा रहा है।

हर ग्राम पंचायत में बनेगी 5 लोगों की टीम

कार्यक्रम में श्री चौहान ने कहा कि जानकारी के अभाव में कई श्रमिक योजनाओं के लाभ से वंचित हो जाते हैं, इसको ध्यान में रखते हुए अब हर ग्राम पंचायत में 5 लोगों की विशेष टीम बनाई जाएगी जो ग्राम पंचायत पर निगरानी भी रखेगी। योजना के बारे में जानकारी भी देगी। गरीबों की जिंदगी बदलने के लिए नया जमाना आया है। उन्होंने कहा कि योजना जमीन पर ठीक तरीके से लागू हो, इसके लिए सबका सहयोग मिलना बहुत जरूरी है, सहयोग के बिना कोई भी काम संभव नहीं हो सकता। समाज बदलेगा तो देश बदलेगा जिससे परिवर्तन की लहर आएगी। हमें सभी को बेटा-बेटी को समान अधिकार देना है। उन्होंने कहा कि कमाने वाला खाएगा, लूटने वाला जाएगा, नया जमाना आयेगा। इन अंतिम पंक्तियों के साथ अपना भाषण समाप्त किया।

कार्यक्रम में हितग्राहियों को योजनाओं का लाभ प्रदान किया गया जिसमें बकाया बिजली बिल माफ प्रमाण पत्र, फसल क्षति मुआवजा के चेक, उज्जवला गैस कनेक्शन प्रमाण पत्र, श्रमिक मृत्यु पर दो लाख सहायता राशि के प्रमाण पत्र, स्मार्ट कार्ड वितरण,जनकल्याण अनुग्रह की राशि, सोलर पंप योजना का लाभ प्रमाण पत्र, रुपे किसान कार्ड वितरण,मुख्यमंत्री ऋण समाधान का ब्याज माफी प्रमाण पत्र आदि वितरित किए।