Home मध्यप्रदेश जिन पर थी सुरक्षा की जिम्मेदारी वही कर रहे थे बालिकाओं का...

जिन पर थी सुरक्षा की जिम्मेदारी वही कर रहे थे बालिकाओं का शोषण: कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान द्वारा कराई गई जांच में जावरा स्थित बालिका गृह में चल रहे कुकृत्यों का हुआ खुलासा, बालिका गृह से जुड़े चार लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज, तीन गिरफ्तार। कलेक्टर ने प्रेस वार्ता कर दी जानकारी

रतलाम,31जनवरी(खबरबाबा.काम)। जिले के जावरा में 24 जनवरी को बालिका  आश्रय गृह से बच्चियों के  भागने के मामले में कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान  के निर्देश पर शुरू की गई जांच में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं ।  कलेक्टर के अनुसार जांच में बालिकाओं के साथ योन शोषण सहित मारपीट  किए जाने के तथ्य सामने आए हैं ।इनके आधार पर गुरुवार को प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की है। कलेक्टर के निर्देश पर बालिका आश्रयग्रह के कर्ताधर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है  और उनके खिलाफ प्रकरण भी दर्ज कर लिया गया है।

गुरुवार दोपहर को कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने पत्रकार वार्ता लेकर मीडिया के सामने जांच  और कार्रवाई की जानकारी दी।कलेक्टर श्रीमती चौहान ने बताया कि  जावरा स्थित कुंदन कुटीर बालिका गृह से 24 जनवरी को पांच  बालिकाएं भाग गई थी। जिन्हें उसी दिन शाम को प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए बरामद कर लिया था। इसके बाद कलेक्टर ने जावरा एसडीएम को बालिका गृह में चल रही गतिविधियों की जांच के आदेश दिए थे ।कलेक्टर के अनुसार जावरा एसडीएम द्वारा की गई जांच में वहां रह गई बालिकाओं के साथ यौन शोषण, शारीरिक प्रताड़ना और मारपीट जैसे तथ्य सामने आए हैं। जिसके बाद गुरुवार को  कलेक्टर के निर्देश पर बालिका गृह से जुड़े लोगों पर कार्रवाई की गई कलेक्टर ने बताया कि इस पूरे मामले में बालिका गृह के पूर्व अध्यक्ष और वर्तमान में चाइल्ड वेलफेयर सोसाइटी के अध्यक्ष रचना भारती , उसके पति  ओम प्रकाश भारती , संस्था के सचिव दिलीप बरैया को हिरासत में ले लिया है । वही अध्यक्ष संदेश जैन की तलाश की जा रही है ।  कलेक्टर ने बताया कि इस मामले में आरोपियों के खिलाफ धारा 354, 376 ,323, पास्को एक्ट एवं जे.जे एक्ट के तहत प्रकरण भी दर्ज किया गया है।

कलेक्टर  श्रीमती चौहान ने बताया कि जांच में इस तरह के तथ्यों के सामने आने के बाद दो दिन पूर्व ही सोमवार को बालिका गृह कुंदनकुटीर पर प्रशासन की टीम ने कार्रवाई करते हुए सभी 25 बालिकाओं को रतलाम वन स्टॉप सेंटर पर शिफ्ट कर दिया था ।  कलेक्टर श्रीमती चौहान ने बताया कि पूरे मामले में और जांच की जा रही है।  कलेक्टर ने सभी बालिकाओं को उज्जैन के शासकीय बालगृह में शिफ्ट करने की बात भी कही है।

इसके बाद शुरू हुई थी जांच

उल्लेखनीय है कि बालिका गृह से 24 जनवरी की सुबह 5 बच्चियां बाथरूम का वेंटीलेटर तोड़कर भाग निकली थी। पुलिस ने इन्हें मंदसौर पुलिस लाईन से बरामद किया था। सूत्रों के अनुसार मेडिकल करवाने पर इनमें से एक बालिका गर्भवती भी पाई गई थी। बालिकाओं ने भी बालिका गृह में प्रताड़ना की बात कही थी। इसके बाद से ही जिला प्रशासन और बाल कल्याण समिति बालिका गृह को लेकर जांच कर रहा है।

निलंबित करने का प्रस्ताव भेजा

इस पूरे मामले में लापरवाही को लेकर कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने पूर्व महिला सशक्तिकरण अधिकारी और वर्तमान में महिला बाल विकास विभाग के सहायक संचालक रविंद्र मिश्रा के निलंबन का प्रस्ताव भी संभागायुक्त को भेजा है। कलेक्टर ने बताया कि  संस्था के पूर्व अध्यक्ष आरोपी रचना भारती जो कि चाइल्ड वेलफेयर सोसाइटीे की अध्यक्ष है ,उनके निलंबन के लिए भी शासन को प्रस्ताव भेजा गया है।