Home रतलाम दुल्हन ससुराल से भागी तो रुपए वापस मांगने पर कर दी महिला...

दुल्हन ससुराल से भागी तो रुपए वापस मांगने पर कर दी महिला की हत्या, मलेनी नदी के किनारे मिले महिला के शव की गुत्थी सुलझी, दो आरोपी गिरफ्तार, एक की तलाश जारी, मुख्य आरोपी के साथ मिलकर विवाह कराने का काम करती थी मृतिका।

रतलाम,18 मार्च(खबरबाबा.काम)। जिले के  पिपलौदा तहसील के ग्राम नांदलेटा में पांच दिन पूर्व मलेनी नदी के किनारे मिले एक महिला के अर्धनग्न शव के मामले की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। महिला की गला घोंटकर एवं धारदार छुरे से वार कर हत्या की गई थी। इस मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है और एक आरोपी की तलाश की जा रही है। पुलिस के अनुसार महिला उसकी हत्या के मामले में शामिल एक आरोपी के साथ मिलकर विवाह  कराने का काम करती थी और रुपए-पैसे के लेनदेन के विवाद में मुख्य आरोपी ने अपने बेटे और साथी के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी थी।

रविवार को पुलिस नियंत्रण कक्ष पर मामले का खुलासा करते हुए एएसपी प्रदीप शर्मा ने बताया कि  ग्राम नांदलेटा में 13 मार्च  मंगलवार सुबह ग्रामीणों ने मलेनी नदी के किनारे एक अज्ञात महिला की अर्धनग्न अवस्था में  लाश देखकर पुलिस को सूचना दी। पिपलोदा थाना प्रभारी आरसी भाटी सूचना पर टीम के साथ मौके पर पंहुचे और पंचनामा बनाने के साथ वहां सुराग भी तलाशे। इसके बाद शव पोस्टमार्टम के लिए जावरा अस्पताल भेजा गया। महिला के गले पर धारदार हथियार के निशान थे। पीएम रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने इस मामले में अज्ञात आरोपियों के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरु की।

एसपी ने बनाई टीम 

हत्या के इस मामले में एसपी अमित सिंह के मार्गदर्शन में एएसपी प्रदीप शर्मा के निर्देशन और एसडीओपी डी.आर.माले के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई। टीम ने पहले मृतिका की शिनाख्ती के प्रयास शुरु किए। । मृतिका की पहचान कृष्णाबाई पति मोहनलाल मोगिया 40 वर्ष निवासी सनावदा थाना बडऩगर जिला उज्जैन के रुप में हुई। एएसपी प्रदीप शर्मा ने बताया कि पुलिस ने मृतिका के मोबाइल नम्बर और उसके द्वारा की गई बातचीत के आधार पर कुछ संदिग्ध नम्बर चिन्हीत किए, जिसके आधार पर संदेही कन्हैयालाल पिता मोतीलाल 48 वर्ष निवासी हरियाखेड़ा को हिरासत में लिया गया।

दुल्हन भागने के बाद पैसे वापस मांगने पर हुई हत्या

एएसपी प्रदीप शर्मा ने बताया कि पुछताछ में कन्हैयालाल ने साथी समरथ पिता पूनमचंद 31 वर्ष निवासी बरगढ और बेटे जितेन्द्र 30 वर्ष के साथ मिलकर महिला की हत्या करना कबुल किया। पुलिस के अनुसार मृतिका कृष्णा और आरोपी कन्हैयालाल मिलकर शादियां कराने का काम करते थे। मृतिका शादी के लिए लड़कियों से मिलवाती थी। एएसपी श्री शर्मा ने बताया कि कुछ दिनों पूर्व दोनों ने एक युवती का विवाह चित्तौड़ राजस्थान में कराया था। उक्त लड़की को कृष्णा कन्हैयालाल के पास लाई थी। विवाह कराने पर कृष्णा और कन्हैयालाल को कुछ रुपए मिले थे। शादी के बाद उक्त युवती ससुराल से भाग गई थी, जिसके बाद लड़के वाले कृष्णा से रुपए वापस मांग रहे थे और पुलिस में शिकायत करने की धमकी दे रहे थे। इसी विवाद के निराकरण के लिए मृतिका कृष्णा घटना के कुछ दिन पूर्व ग्राम हरियाखेड़ा में कन्हैयालाल के घर आई थी और कन्हैयालाल पर पैसे वापस देने का दबाव बना रही थी और उसके घर का पता भी सामने वाले को देने की धमकी दी थी, जिसके कारण कन्हैयालाल ने अपने बेटे जितेन्द्र और दोस्त समरथ के साथ मिलकर कृष्णा को रास्ते से हटाने की योजना बनाई और उसकी हत्या कर दी।

बीयर पिलाकर की वारदात

एएसपी प्रदीप शर्मा ने बताया कि घटना के दिन रात 9 बजे योजनाबध्द तरीके से आरोपी कन्हैयालाल ने कृष्णाबाई को एक के बाद एक बीयर पिलाई और नशा अधिक होने पर उसे मोटर साइकल पर मलेनी नदीं पर ले गया। वहीँ थोड़ी देर में जितेन्द्र और समरथ भी आ गए।  आरोपियों ने  नदी में ले जाकर महिला के गले पर ब्लाउज कस कर घोटा और बाद में धारदार छुरे से गले पर गहरा घाव कर उसकी हत्या कर दी। मृतिका की पहचान छिपाने के लिए आरोपियों ने उसके शरीर के कपड़े उतारकर  हरियाखेड़ा और बरगढ के मगरे पर रोड किनारे जला दिए। पुलिस ने इस मामले में कन्हैयालाल और समरथ को गिरफ्तार कर उन्हे हत्या में प्रयुक्त छुरा भी बरामद कर लिया है।

इनकी रही भूमिका

हत्याकांड के पर्दाफाश में पिपलौदा थाना प्रभारी आर.सी.भाटी, एसआई लोकेन्द्रसिंह डाबर, एएसआई के.के.सिंह, प्रधान आरक्षक सीताराम, राजेन्द्र, कमल, कपील. अवधेश, गोविंद, मांगीलाल, अनिल, महेन्द्र धाकड़, साइबर सेल रतलाम के लक्ष्मीनारायण सूर्यवंशी, हिम्मतसिंह, मनमोहन शमा4, रितेश, बुदनसिंह तोमर, अनिल सोलंकी, प्रधान आरक्षक शिवनारायण की भूमिका रही। एसपी ने टीम को पांच हजार रुपए से पुरस्कृत करने की घोषणा की है।