Home मध्यप्रदेश दुष्कर्म मामला: विरोध में शहर में निकला मार्च,हजारों की संख्या में शामिल...

दुष्कर्म मामला: विरोध में शहर में निकला मार्च,हजारों की संख्या में शामिल हुए लोग। पथराव के बाद पुलिस ने किया बल प्रयोग, आंसू गैस के गोले भी छोड़े

रतलाम, 26 सितम्बर(खबरबाबा.काम)। नाबालिग स्कूली छात्रा के साथ सहपाठी और उसके साथी  द्वारा दुष्कर्म किए जाने के मामले ने पुरे शहर में आक्रोश फैला दिया है। गुरुवार को घटना के विरोध में निकले मार्च में हजारों की संख्या में आम नागरिक शामिल हुए। मार्च जब पीडि़त बालिका और मामले में शामिल एक आरोपी के स्कूल पहुंचा तो कुछ लोगों ने वहां पथराव कर दिया, जिसके बाद पुलिस ने भी हल्का बल प्रयोग किया। वहां से प्रदर्शनकारी भीड़ का एक हिस्सा आरोपियों को कमरा देने वाली स्टेशन रोड़ स्थित होटल पर पहुंच गया। यहां पुलिस ने आसू गैस के गोले छोड़़कर और बल प्रयोग कर भीड़ को नियंत्रित किया। इधर घटना के विरोध में  अभाविप के आव्हान के बाद गुरुवार को शहर के स्कूल-कालेज भी बंद रहे।  इस मामले को लेकर शहर में आज लगभग तीन घंटे से अधिक समय तक हंगामेे की स्थिति रही।

निजी स्कूल में पढने वाली नाबालिग छात्रा के साथ दुष्कर्म की घटना ने पुरे शहर को झकझोर दिया है। सुबह 11 बजे महलवाड़ा से घटना के विरोध में मार्च निकाला गया, जिसमें बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। मार्च महलवाड़ा तिराहा, पैलेस रोड,डालु मोदी बाजार, घांसबाजार, चौमुखी पुल, चांदनीचौक सहित शहर के प्रमुख मार्गो से नारेबाजी करते हुए निकला। लोग घटना के विरोध में हाथों में तख्तियां लिए हुए चल रहे थे। मार्च जब संबधित छात्र-छात्रा के स्कूल पहुंचा तो उसमें शामिल कुछ लोग आक्रोशित हो गए और उन्होने स्कूल के दोनों गेट पर पथराव कर दिया। यहां  पुलिस बल के साथ तैनात एएसपी इंद्रजीत बाकरवाल, एसडीएम लक्ष्मी गामड़, तहसीलदार गोपाल सोनी  ने आक्रोशित भीड़ को समझाने की कोशीश की, वहीं चेतावनी भी जारी की, लेकिन भीड़ सुनने को तैयार नहीं थी। एसपी गौरव तिवारी भी मौके पर पहुंचे, जिसके बाद भीड़ को नियंत्रित करने के लिए हल्का बल प्रयोग किया गया। भीड़ ने स्कूल की बाउण्ड्रीवाल पर लगी एक जाली भी तोड़ दी। स्कूल के बाहर करीब एक घंटे तक हंगामा चला।

होटल पर पहुंची भीड़, आंसू गैस के गोले छोड़े

पुलिस द्वारा स्कूल से भीड़ हटाने के बाद प्रदर्शनकारी भीड़ का एक हिस्सा स्टेशन रोड स्थित उस होटल पर पहुंच गया, जहां आरपियों ने कमरा लिया था। भीड़ जैसे ही होटल पहुंची, वैसी ही एसपी गौरव तिवारी वहां पहुंचे और भीड़ को नियंत्रित करने के लिए बल प्रयोग शुरु किया। यहां पुलिस को आंसू गैस के गोले भी छोडऩे पड़े। इसके बाद भी काफी देर तक हंगामा चलता रहा। इसके बाद एसपी गौरव तिवारी स्वंय हाथ में लट्ठ लेकर सड़कों पर निकले।

हिरासत में लेने पर आक्रोशित हुई भीड़

दो बत्ती पर हंगामें के बाद मौके पर वज्र वाहन भी पहुंच गया। यहां से पुलिस ने कुछ लोगों के हिरासत में ले लिया। हिरासत में लेने पर भीड़ और आक्रोशित हो गई और सभी स्टेशन रोड थाने के बाहर पहुंच गए। यहा पुलिस माइक से बार-बार प्रदर्शनकारियों को चेतावनी देती रही। आक्रोशित लोग हिरासत में लिए गए लोगों को छोडऩे की मांग को लेकर थाने से कुछ दूरी पर सड़क पर बैठ गए। कुछ देर बाद पुलिस ने हिरासत में लिए लोगों को छोड़ दिया, जिसके बाद भीड़ वहां से हटी।

आरक्षक से झूमाझटकी

स्कूल के बाहर प्रदर्शन के दौरान हल्का बल प्रयोग करने पर एक आरक्षक भी भीड़ के गुस्से का शिकार हुआ। भीड़ में शामिल कुछ लोगों ने आरक्षक से झुमाझटकी भी की, जिसके बाद पुलिस ने मामले को शांत किया।

स्कूल-कालेज रहे बंद

घटना के विरोध में अभाविप द्वारा गुरुवार को स्कूल-कालेज के बंद का आव्हान किया गया था। जिसके बाद शहर के प्रमुख स्कूलों ने बुधवार रात में ही अवकाश के मैसेज पालकों को दे दिए। गुरुवार को शहर के अधिकांश स्कूल बंद रहे। सुबह अभाविप ने रैली भी निकाली।

सभी आरोपी गिरफ्तार

निजी स्कूल में पढ़ने वाली नाबालिक छात्रा से उसकी कक्षा में पढ़ने वाले सहपाठी और उसके साथी द्वारा दुष्कर्म करने के मामले में पुलिस ने होटल में रूम बुक करने वाले व्यक्ति को भी देर रात गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के अनुसार इस मामले में अभी तक की गई जांच में सामने आए सभी आरोपियों को पुलिस गिरफ्त में ले चुकी है.