Home देश नया अध्यक्ष चुने जाने से पहले भाजपा में चलेगा सदस्यता अभियान, शिवराज...

नया अध्यक्ष चुने जाने से पहले भाजपा में चलेगा सदस्यता अभियान, शिवराज को जिम्मेदारी

नई दिल्ली, 13जून। भाजपा ने अपने संगठन का विस्तार करने के लिए सदस्यता अभियान चलाने का निर्णय किया है। नया अध्यक्ष चुने जाने के पहले सदस्यता अभियान का पूरा होने के साथ ही बूथ, मंडल, जिला और प्रदेश स्तर के सांगठनिक चुनाव संपन्न होने चाहिए। इसमें कम से कम तीन से चार महीने का समय लग सकता है, जबकि अक्टूबर महीने में ही महाराष्ट्र, झारखंड और हरियाणा राज्यों के विधानसभा चुनाव होने हैं। इस तरह भाजपा ने इशारा कर दिया है कि इन राज्यों के चुनाव वर्तमान अध्यक्ष अमित शाह की अगुवाई में ही लड़े जा सकते हैं।

भारतीय जनता पार्टी महासचिव भूपेंद्र यादव ने गुरुवार को एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि पार्टी 20 फीसदी नए सदस्य बनाने के लक्ष्य के साथ अपना सदस्यता अभियान शुरु करने जा रही है। भाजपा के उपाध्यक्ष और मध्यप्रदेश के पू्र्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को इस अभियान का राष्ट्रीय संयोजक बनाया गया है। उनका सहयोग करने के लिए  दुष्यंत गौतम, सुरेश पुजारी, अरुण चतुर्वेदी और शोभा सुरेंद्रन को उपसंयोजक बनाया गया है। शिवराज अपनी टीम से विचार विमर्श के बाद शीघ्र ही सदस्यता अभियान की तारीखों की घोषणा करेंगे।

लगभग 15 दिनों तक चलने वाले इस सदस्यता अभियान में लगभग सवा दो करोड़ नए सदस्य बनाए जाएंगे। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की अगुवाई में आज पार्टी मुख्यालय 6A, दीनदयाल उपाध्याय मार्ग पर प्रदेश संगठन के प्रभारियों और अन्य पदाधिकारियों की बैठक में इसका फैसला किया गया। केंद्रीय सदस्यता टीम का सहयोग करने के लिए प्रत्येक प्रदेश में अलग से संयोजक और उपसंयोजकों की टीम बनाई जाएगी।

भूपेंद्र यादव ने बैठक के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि देश में मजबूत ढंग से सत्ता में वापसी के बावजूद अभी भाजपा का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन सामने नहीं आया है। पार्टी तमिलना़डु, आंध्रप्रदेश और केरल जैसे दक्षिण भारत के राज्यों में अपना आधार बढ़ाने के लिए प्रयास करेगी। उन्होंने कहा कि जिन राज्यों में पार्टी ने लगभग सभी सीटों पर जीत दर्ज की है, उसमें भी वह जनता के बीच अपनी पैठ सुधारने की कोशिश करेगी।

आज अमित शाह ने भाजपा के सांगठनिक मामलों के प्रभारी नेताओं के साथ पार्टी मुख्यालय में बैठक की। इसमें शामिल होने के लिए वसुंधरा राजे, उमा भारती, दिलीप घोष, विनय सहस्त्रबुद्धे, जेपी नड्डा और भूपेंद्र यादव पहुंचे।

नई सरकार में गृहमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद से ही अमित शाह लगातार बैठक कर रहे हैं। ईद के दिन भी उन्होंने हाईलेवल मीटिंग बुलाई थी। इसके अलावा उन्होंने देश की आंतरिक सुरक्षा की जानकारी भी ली थी। जिसमें नक्सलवाद और आतंकवाद पर विशेष रूप से चर्चा हुई।

सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में पार्टी की इकाइयों में संगठन के चुनाव हरियाणा और महाराष्ट्र राज्यों में विधानसभा चुनावों के साथ हो सकते हैं। इसके बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होगा।

(साभार-अमर उजाला)