Home देश पीएम के ट्वीट में एमपी का नाम नहीं होने पर सीएम कमलनाथ...

पीएम के ट्वीट में एमपी का नाम नहीं होने पर सीएम कमलनाथ ने साधा निशाना, कहा-लोग यहां भी बसते है 

भोपाल, 17 अप्रैल। आंधी, तुफान, आकाशीय बिजली और बारिश ने मध्यप्रदेश ,गुजरात और राजस्थान  समेत देश के कई इलाकों में तबाही मचाई है। प्राकतिक आपदा में अब तक 31 से अधिक लोगों की मौत हो गई है, जबकि दर्जनों घायल हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर घायलों के लिए दुख जताया और मुआवजे का भी ऐलान किया। लेकिन उन्होंने ऐसा सिर्फ गुजरात के लिए किया। अब इसी पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने निशाना साधा है और कहा है कि आप गुजरात नहीं पूरे देश के प्रधानमंत्री हैं।

दरअसल, बुधवार सुबह जैसे ही प्राकृतिक आपदा की खबर आई तो हर किसी को चिंता हुइ। कुछ ही देर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ट्वीट आया, उन्होंने अपने ट्विटर हैंडलसे नुकसान पर दुख जताया. पीएम ने लिखा कि गुजरात के कई हिस्सों में आंधी-बारिश और तूफान की वजह से हुए नुकसान से काफी आहत है। सभी के परिवार के साथ मेरी संवेदनाएं हैं।

प्रधानमंत्री के ट्वीट के अलावा प्रधानमंत्री कार्यालय के ट्विटर हैंडल  से मुआवजे का ऐलान किया गया। यहां से ट्वीट किया गया कि गुजरात में जिन लोगों की आंधी-तूफान के कारण मौत हुई है, उन सभी के परिवारों को दो लाख का मुआवजा और जो लोग घायल हुए हैं उन सभी को 50 हजार रुपये की मदद की जाएगी।

हालांकि, इस मुद्दे पर विवाद होने के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से अन्य राज्यों के लिए भी मुआवजे का ऐलान किया गया।  सुबह करीब 11 बजे पीएमओ की तरफ से ट्वीट आया कि मध्य प्रदेश, राजस्थान, मणिपुर समेत कई राज्यों में आंधी-तूफान की वजह से हुए नुकसान पर दुख व्यक्त करता हूं।  यहां भी मृतकों के परिवार को 2 लाख, घायलों को 50 हजार की मदद की जाएगी।

कमलनाथ ने साधा निशाना

प्रधानमंत्री के उक्त ट्वीट में सिर्फ गुजरात का जिक्र होने से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पीएम पर निशषाना साधा। उन्होंने तुरंत ट्वीट कर कहा कि नरेंद्र मोदी जी, आप सिर्फ गुजरात नहीं बल्कि पूरे देश के प्रधानमंत्री हैं।  सीएम कमलनाथ ने लिखा कि एमपी में भी बेमौसम बारिश व तूफ़ान के कारण आकाशीय बिजली गिरने से 10 से अधिक लोगों की मौत हुई है, लेकिन आपकी संवेदनाएं सिर्फ गुजरात तक सीमित? भले यहां आपकी पार्टी की सरकार नहीं है लेकिन लोग यहां भी बसते हैं।