Home रतलाम पैसे का नशा वासना के नशे से भी खतरनाक है–प्रमाण सागरजी महाराज,...

पैसे का नशा वासना के नशे से भी खतरनाक है–प्रमाण सागरजी महाराज, महापौर ने भी लिया प्रवचन का लाभ

रतलाम । दिगम्बर जैन समाज के पर्युषण पर्व में चल रहे संस्कार महोत्सव के दौरान धर्मसभा को संबोधित करते हुए प्रमाणसागर जी महाराज ने कहा कि पैसे का नशा वासना के नशे से भी खतरनाक है, वासना का नशा तो एक समय मे उतर जाता है लेकिन पैसे का नशा सामने मौत खड़ी हो तब तक नही उतरता।
       रतलाम की महापौर डॉ. श्रीमती सुनीता यार्दे ने आज समारोह की विशेष अतिथि के रूप में महाराज श्री के दर्शन लाभ लिए और महाराजश्री के प्रवचनों का लाभ लिया । महाराजश्री ने आज कमाई पर विशेष प्रवचन देते हुए कहा कि अपने जीवन निर्वाह हेतु व्यक्ति को पैसा कमाना जरूरी होता है, लेकिन उतना ही कमाना चाहिए जितनी जीवन यापन के लिए जरूरी हो, और यदि उसके बाद भी आपमे ओर अधिक कमाने की दक्षता है तो जरूरतमंदों के लिए कमाए । सिर्फ अपने लिए कमाओगे तो एक दिन जीवनभर की पूरी कमाई यही छोड़कर खाली हाथ चले जाओगे । जरूरतमंदों के लिए कमाओगे तो पूण्य कमाओगे । पैसे की कमाई यही रह जाएगी और पुण्य की कमाई आपके साथ जाएगी ।अपना हाथ उसके लिए बढ़ाना सीखो जिनके हाथ कमजोर है । प्रवचन के दौरान पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी भी विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे ।