Home रतलाम फिर शहर में निकले महापौर और अधिकारी, तीन घंटे से अधिक समय...

फिर शहर में निकले महापौर और अधिकारी, तीन घंटे से अधिक समय तक निरीक्षण कर दिए कई निर्देश

रतलाम(खबरबाबा.काम)। शहर में चल रहे विकास कार्यो की प्रगति की पड़ताल करने और शहर मे विकास कार्यो एवं जनसुविधाओं की नई संभावनाओं को टटोलने के लिए गुरुवार सुबह एक बार फिर अधिकारी एवं महापौर साथ में शहर के भ्रमण पर निकले। इस दौरान जहां सीवरेज कार्य और यातायात को लेकर निर्देश दिए गए, वहीं कालिका माता क्षैत्र के सोन्द्रर्यीकरण को लेकर भी निर्देश जारी किए गए।
रतलाम शहर में चल रहे विकास कार्यों के निरीक्षण के लिए शउक्रवार सुबह 9:00 बजे से कलेक्टर श्रीमति तन्वी सुन्द्रियाल , महापौर डा. सुनीता यार्दे , एसपी अमित सिंह ,निगमायुक्त एस.के.सिंह , एसडीएम अनिल भाना, शहर सहित विभागीय अधिकारियों ने शहर का भ्रमण किया ।
पोल शिप्टींग का कार्य होगा
फव्वारा चौक ,अंबेडकर तिराहा ,घोड़ा चौराहा ,सर्किट हाउस रोड, सैलाना बस स्टैंड, नगर निगम कार्यालय तिराहा ,महलवाडा , कालका माता मंदिर सहित शहर के मार्गों पर चल रहे सीवरेज एवं अन्य कार्यों का निरीक्षण किया गया तथा प्रगति की पड़ताल की गई । अधिकारियों ने बताया की बिजली के पोल तथा यातायात को लेकर परेशानी हो रही है । कलेक्टर ने तत्काल ऊर्जा विभाग के इंजीनियर तथा ट्रैफिक पुलिस के अधिकारियों को निर्देशित किया कि नियमानुसार पोल शिफ्टिंग की कार्रवाई करें तथा यातायात विभाग द्वारा निर्माण कार्य के दौरान जरुरत के अनुसार मार्ग का डायवर्सन किया जाए तथा वैकल्पिक मार्ग उपलब्ध कराया जाए ताकि आने जाने वालों को परेशानी ना हो । कलेक्टर ने सीवरेज लाइन बनने के बाद फिर से सड़क निर्माण की बात कही तथा सड़क निर्माण में पूरी गुणवत्ता रखे जाने के निर्देश दिए ।
कालिकामाता क्षैत्र का होगा विस्तारीकरण
उपसंचालक पशु चिकित्सा सेवाएं के कार्यालय का निरीक्षण किया गया तथा भवन अत्यंत पुराना होने के आधार पर नए स्थान पर शिफ्ट करने संबंधी कार्यवाही की बात कही । कालका माता मंदिर परिसर का सौन्र्दर्यीकरण करने के लिए कार्य योजना तैयार कर प्रस्तुत करने को कहा। संस्थाओं के इंजीनियरों ने बताया कि परिसर में कैफेटेरिया ,फूड जोन, किड्स जोन, ओपन जिम, योगा आदि की व्यवस्था कर क्षेत्र का विस्तारीकरण कर विकास किया जा सकता है। लोगों की सुविधा के लिए उचित पार्किंग व्यवस्था तथा मार्ग का चौड़ीकरण करने के लिए निर्देश दिए गए। कालका माता मंदिर परिसर में स्थित बगीचे का अवलोकन किया गया तथा इसके सौन्र्दर्यीकरण के लिए निर्देश दिए गए ।