Home रतलाम बच्चा बदलने की शंका में एमसीएच में हुआ हंगामा, पुलिस और प्रशासन...

बच्चा बदलने की शंका में एमसीएच में हुआ हंगामा, पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर गलतफहमी को किया दूर

रतलाम,26मार्च(खबरबाबा.काम) । महिला एवं शिशु चिकित्सालय में मंगलवार शाम एक परिवार ने नवजात बदलने की आशंका में हंगामा किया। परिवार की महिला ने बच्ची को जन्म दिया, लेकिन उसी समय जन्में अन्य लड़के को देखकर भाभी ने बाहर खड़े परिजनों को लड़के के जन्म की बात कह दी। बाद में जब अस्पताल प्रशासन ने लड़की के जन्म होने की बात कही, तो परिजनों ने बच्चा बदलने का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। बात बढने पर सीएसपी, तहसीलदार आदि भी अस्पताल पहुंचे और जैसे–तैसे मामला शांत करवाया।

जानकारी के अनुसार एमसीएच में जावरा निवासी एक गर्भवती को भर्ती किया गया था। सिजेरियन आॅपरेशन से उसने दोपहर 3.37 मिनट पर लड़को को जन्म दिया। महिला को कुछ देर बाद वार्ड में भेज दिया गया, लेकिन उसके बेटे को ब्लड ग्रुप ओ नेगेटिव होने से स्टाफ ने टेबल पर अन्य जांच के लिए सुला दिया। इसी बीच कुरैशी मंडी निवासी एक अन्य गर्भवती को भी एमसीएच में प्रसव कक्ष में लिया गया। उसने 3.58 पर लड़की को जन्म दिया। अंदर महिला की भाभी भी मौजूद थी। भाभी ने टेबल पर लड़के को लेटा देखा और बाहर आकर परिजनों को बताया कि लड़के का जन्म हुआ है। करीब 15 मिनट बाद जब अस्पताल स्टाफ ने परिजनों को लड़की होने की बात कही, तो परिजन भड़क उठे। उन्होंने आरोप लगाया कि उसके परिवार में लड़के का जन्म हुआ है और अस्पताल में बच्चा बदल दिया गया है। अस्पताल की नर्स, डॉक्टरों ने दोनों परिवारों को बच्चे की जन्म की रिसिप्ट, ब्लड ग्रुप आदि के दस्तावेज भी बताए, लेकिन परिवार नहीं माना। हंगामा बढने पर स्टाफ ने वरिष्ठ जनों को सूचना दी।

प्रशासन ने कहा करवा देंगे डीएनए टेस्ट.…

तहसीलदार गोपाल सोनी, सीएसपी मानसिंह ठाकुर और दोबत्ती थाना टीआई राजेंद्र वर्मा भी अस्पताल पहुंचे। हंगामे की सूचना पर कई समाजसेवी भी अस्पताल पहुंच गए। यहां सीएसपी ने परिजनों से चर्चा की और  परिवार ने बच्चा बदलने की शिकायत की। इसपर अधिकारियों ने दोनों परिवारों को मां के ब्लडग्रुप, भर्ती होने के समय, बच्चों के जन्म लेने के समय सहित सभी दस्तावेज दिखाए। प्रशासन ने यह भी कहा कि अगर परिवार को फिर भी शंका है तो दोनों बच्चों का डीएनए टेस्ट करवाया जा सकता है। हालांकि ब्लडग्रुप सहित दस्तावेज देखकर परिजन शांत हो गए और दोनों परिवारों ने अपने-अपने बच्चे ले लिए।

——————————–