Home रतलाम बजट पर खबरबाबा डॉट कॉम ने ली शहर के चार्टर्ड अकाउंटेंट्स की...

बजट पर खबरबाबा डॉट कॉम ने ली शहर के चार्टर्ड अकाउंटेंट्स की प्रतिक्रिया, आइए जानते हैं बजट के बारे में क्या कहते है सीए

रतलाम,1फरवरी(खबरबाबा.काम)।  शुक्रवार को केंद्रीय वित्त मंत्री पीयूष गोयल द्वारा पेश किए गए बजट को लेकर खबरबाबा डॉट कॉम ने शहर के चार्टर्ड अकॉउंटेंट्स की प्रतिक्रिया ली।  आइए जानते हैं चार्टर्ड अकॉउंटेंट्स ने बजट का विश्लेषण किस प्रकार किया।

चार्टेड अकॉउंटेंट्स वित्त मंत्री ने वित्तीय प्रबंधन की कुशलताओं का अद्भुत विनियोजन किया । पूर्ण रूपेण चुनावी बजट हो कर सही मायनो में विधानसभा चुनावों के परिणामो का विश्लेषण होकर लोकसभा चुनावों का शंखनाद है ।

वास्तविकताओं के आईने में कितना सच है यह तो वित्त मंत्री जी की टाइम मशीन में अगले 10 वर्षो के भारत की परिकल्पना यात्रा के सुखद पहलू में छिपा हुआ है। परंतु समाज के हर वर्ग किसान ,मजदूर ,व्यवसायी, मध्यमवर्गीय आयकर दाता को मुक्त हस्त से सौगाते तो दी गई है। किंतु यह सब आएगा कंहा से इसका विस्तृत आकलन किया जाना इस बजट की और सरकारों की चुनोती है। विकसीत भारत की परिकल्पना में वित्त मंत्री के  बजट भाषण के दौरान यही लग रहा था कि देश आगे बढ़ रहा है । समालोचक दृष्टिकोन से समग्र समाज के लिये सौगातों का बजट है ।साथ मे चुनोती है कि व्यय तभी होगा , जब आय होगी। आयकर की सबसे बड़ी राहत 5 लाख रुपये तक कि आय पर  सेक्शन 87 के तहत 12500 की कर छूट किया जाना है। हालांकि इसे युक्ति संगत बनाया जाना चाहिए। 10 रुपये की अधिक आमदनी पर 12878 रुपये का कर चुकाना न्यायोचित नही है।

प्रमोद नाहर, पूर्व अध्यक्ष रतलाम सीए  ब्रांच ,उपाध्यक्ष कर सलाहकार परिषद और वरिष्ठ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स 

महंगाई दर पर लगाम लगा कर व राजकोषीय घाटे को कम करने में सफलता प्राप्त करते हुए संतुलित व लोकप्रिय बजट दिया गया है।समाज के बहुत बड़े वर्ग गरीब किसान एवं मध्यम आय वालों को राहत प्रदान करते हुए भविष्य में लंबे समय तक अर्थव्यवस्था को मजबूती देने वाला बजट कहूंगा। साथ ही स्वच्छता ,सड़क, बिजली व पेयजल के साथ-साथ कर्मचारियों के कल्याण के लिए योजना एवं पहली बार कामधेनु योजना प्रस्तुत की गई।

जितेन्द्र कासंवा,चेयरमेन,रतलाम सीए ब्रांच

इस अंतिरम बजट में सरकार की प्राथमिकता मध्यम वर्ग पर टैक्स का भार कम करना रहा है। किसानों के लिए कई ऐलान करने के साथ 87A की रिबेट में बदवाल के कारण अब 5 लाख रूपये की सालाना वाले करदाता को बढ़ी राहत मिलेगी। वहीं जीएसटी में भी राहत देने का प्रयास किया गया है।  कुल मिलाकर यह बजट मध्यम और निम्न वर्ग को आकर्षित करने वाला रहा।

-सीए दीपेंद्र चोपड़ा,सचिव रतलाम सीए ब्रांच

अंतरिम बजट में सबसे बड़ी सौगात टैक्स भरने वाले लोगों के लिए आई 87A की रिबेट में बदवाल के कारण अब 5 लाख रूपये की सालाना वाले करदाता को बढ़ी राहत मिलेगी । हालांकि  यदि कर योग्य आय 5,01,000 है  केवल 2.5lac  की छूट मीलेगी ,वहीं जीएसटी में भी राहत देने का प्रयास किया गया है।हम कह सक्ते है की गरीब किसान एवं मध्यम आय वालों को राहत देने का प्रयास किया गया है

– शलभ डोशी,सीए

बजट किसान,मध्यमवर्ग, आम जनता को राहत देने वाला है। 5 लाख रुपए तक की आय पर टैक्स नहीं लगने से एक बड़े वर्ग को राहत मिलेगी ।वहीं टीडीएस में छूट का दायरा बढ़ाना भी राहत वाला कदम है।

राजेश कोठारी, कर सलाहकार