Home मध्यप्रदेश बीजेपी ने किया घोषणा पत्र जारी,’दृष्टि पत्र’ दिया नाम, जानिए क्या है...

बीजेपी ने किया घोषणा पत्र जारी,’दृष्टि पत्र’ दिया नाम, जानिए क्या है खास-

भोपाल,17नवम्बर(खबरबाबा.काम)। आज मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने आगामी विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी का घोषणापत्र जारी किया. इस घोषणापत्र को दृष्टिपत्र का नाम दिया गया है. अपने घोषणापत्र में बीजेपी ने महिलाओं से लेकर किसानों और प्रदेश के युवाओं के लिए कई लोक लुभावन वादे किए. साथ ही अब तक के कार्यकाल में अपने किए गए कामों के बारे में ब्यौरा भी दिया. रोटी, कपड़ा और मकान को शिवराज सिंह ने अपना संकल्प बताया. इस मौके पर शिवराज सिंह के साथ वित्त मंत्री अरुण जेटली, नरेंद्र सिंह तोमर, कैलाश विजयवर्गीय और प्रभात झा भी मौजूद थे.

अपने इस दृष्टिपत्र में वादों की झड़ी लगाते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कई बड़ी घोषणाएं की

1 .गरीबों के कल्याण के लिये हर गरीब परिवार को पक्का मकान, सस्ती बिजली, बच्चों की पढाई सरकार करेगी.

2 किसान कल्याण के लिये 32701 करोड रूपये बांटे हैं. एक हेक्टेयर के छोटे किसानों के लिये खाते में भावांतर से सीधे पैसे डालेंगे.

3 नर्मदा मालवा लिंक के काम पूरे करेंगे. चंबल एक्सप्रेस बनेगा. बिजली उत्पादन बढेगा.

4 शहरी परिवहन में मेट्रो, स्मार्ट सिटी तो ग्रमीण में स्मार्ट विलेज बनायेंगे.

5 एक हजार तक की आबादी वाले गांवों में पीने का साफ पानी मिलेगा.

6 महिला सक्तिकरण के लिये अलग से पत्र निकला है, सेल्फ हेल्प ग्रुप के लिये कोष बनायेंगे.

7 बच्चियों को स्कूल में 75 फीसदी लाने पर स्कूटी मिलेगी

8 उच्च शिक्षा के लिये गरीब बच्चों की पढ़ाई निशुल्क

9 युवाओं के लिये दस लाख रोजगार सृजित करेंगे

10 टूरिज्म आईटी रियल इस्टेट में निवेश बढायेंगे

11 कर्मचारियों के लिये नया वेतन आयोग बनायेंगे

12 सामान्य वर्ग के निर्धन बेटे बेटियों को पढाई पीएचडी तक निशुल्क देगी आवास भोजन का समाधान होगा.

13 नर्मदा एक्सप्रेस वे, चंबल एक्सप्रेस वे और भापोल-इंदौर एक्सप्रेस वे बनाने का वादा

14 विशेष पिछड़ी जनजातियों को एक हजार रुपये मासिक भत्ता देने का एलान

बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में महिलाओं और किसानों का विशेष ख्याल रखा है. साथ ही GST की वजह से व्यापारियों में छाई हुई नाराजगी को दूर करने की कोशिश भी की है. बीजेपी से पहले कांग्रेस भी अपने घोषणापत्र में इसी तरह के लोक लुभावन वादे कर चुकी है. बीजेपी ने जहां अपने घोषणापत्र को दृष्टिपत्र का नाम दिया है वहीं कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र को वचनपत्र का नाम दिया था.