Home Uncategorized भाईदूज पर आनर किंलिंग के मामले का खुलासा, भाई ने की बहन...

भाईदूज पर आनर किंलिंग के मामले का खुलासा, भाई ने की बहन की हत्या, भाई गिरफ्तार

रतलाम(खबरबाबा.काम)। जिले के जावरा सबडिवीजन अंतर्गत दस दिन पूर्व मिली एक युवती की लाश का मामला हत्या का निकला। पुलिस के अनुसार जांच में आनर किलिंग में युवती के भाई द्वारा ही नदीं में फेंककर हत्या करने का खुलासा हुआ है। पुलिस ने आरोपी भाई को गिरफ्तार कर लिया है। शनिवार भाईदूज के दिन पुलिस नियंत्रण कक्ष पर एएसपी प्रदीप शर्मा ने भाई द्वारा बहन की हत्या किए जाने के इस मामले का पर्दाफाश किया।
एएसपी प्रदीप शर्मा में मामले का खुलासा करते हुए बताया कि 12 अक्टूबर 2017 को बड़ावदा थाना क्षैत्र अंतर्गत मलेनी नदीं से एक 23 वर्षीय अज्ञात लड़की की लाश बरामद की गई थी। बड़ावदा थाने में मर्ग कायम कर मामला जांच में लिया गया था। सोशल मिडिया के माध्यम से भी अज्ञात मृतिका की शिनाख्ती के प्रयास किए गए, जिसके आधार पर मृतिका की पहचान हुई । मृतिका जावरा की रहने वाली थी। जांच के दौरान पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली की मृतिका का उसके परिवारवालों से विवाद चल रहा था और इसी वजह से वह कुछ दिनों से जावरा हुसैन टैकरी पर रह रही थी। एएसपी प्रदीप शर्मा में बताया कि पुलिस ने जब इस दिशा में जांच को आगे बढाया तो जानकारी मिली कि मृतिका के आचरण पर उसके भाई को आपत्ती थी, जिसके चलते उसके भाई अल्तमश उर्फ आशु 24 वर्ष से कुछ दिनों पूर्व उसका विवाद हुआ था। पुलिस को मुखबिर से यह भी जानकारी मिली कि 11 अक्टूबर को मृतिका का भाई अल्तमश अपनी कार की डिक्की में युवती को ले गया था। पुलिस ने सूचना में मिली जानकारी के आधार पर अल्तमश को हिरासत में लेकर पूछताछ की। पुलिस के अनुसार पुछताछ मे आरोपी ने अपनी बहन की हत्या करना कबुल किया। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त कार भी जब्त कर ली है और उसकी डिक्की से मृतिका का मोबाइल और पायजब का टूकड़ा भी बरामद किया है। एएसपी प्रदीप शर्मा में बताया कि पुछताछ में आरोपी ने बताया कि वह बहन के आचरण से परेशान होकर बहन को समझाने गया था, जहां उसका बहन से विवाद हुआ। वह उसे डिक्की में डालकर मलेनी नदी ले गया और वहां भी समझाइश दी। नहीं मामने पर आरोपी ने गुस्से में बहन को नदीं में फेंक दिया, जहां डुबने से उसकी मौत हो गई।
इनकी रही भूमिका
मामले के पर्दाफाश में एसडीओपी जावरा डी.आर.माले, बड़ावदा थाना प्रभारी राजेन्द्र कुमार पंवार, प्रधान आरक्षक दशरथ पाटीदार, गोपाल परिहार, कमलेश सिनम, जितेन्द्रसिंह सिसोदिया, संावरिया पाटीदार, कमलसिंह,राजेश पानोला,रविन्द्रसिंह,अलेक्जेण्डर, रवि पाटीदार, योगेश, प्रेमसिंह, कृष्णपालसिंह की विशेष भूमिका रही।