Home मध्यप्रदेश मध्यप्रदेश में कल हो सकता है मंत्रिमंडल विस्तार, आज पीएम मोदी से...

मध्यप्रदेश में कल हो सकता है मंत्रिमंडल विस्तार, आज पीएम मोदी से मिलेंगे सीएम शिवराज

नई दिल्ली, 29 जून2020/मध्यप्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार की कवायद तेज हो गई है। बताया जा रहा है कि मंगलवार को मंत्रिमंडल विस्तार हो सकता है।  इसे लेकर रविवार देर रात दो बजे तक गृहमंत्री अमित शाह के निवास पर राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन महामंत्री सुहास भगत की बैठक चली। सीएम शिवराज आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात करेंगे।

तीन घंटे तक चली इस बैठक में पहले सीएम शिवराज सिंह ने अमित शाह से व्यक्तिगत मुलाकात की। इसके बाद सुहास भगत और वीडी शर्मा को भी बुलाया गया। बैठक में मंत्रिमंडल के नामों पर विस्तार से चर्चा की गई।

सिंधिया से की मुलाकात
अमित शाह से मिलने के बाद सोमवार को सीएम शिवराज चौहान, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिलने पहुंचे। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को कोरोना राहत कार्यों के लिए अपनी और से मुख्यमंत्री राहत कोष में 30 लाख का रुपये चेक सौंपा।

इसके पहले तीनो नेताओं ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर से भी मुलाकात की थी। सीएम शिवराज दिल्ली में पीएम मोदी के अलावा कई भाजपा नेताओं से मुलाकात करेंगे।

सिंधिया गुट से नौ और नेता बन सकते हैं मंत्री
मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार 30 जून को मंत्रिमंडल विस्तार करेगी। मंत्रिमंडल विस्तार में भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के गुट के नौ और नेताओं को मंत्री बनाया जा सकता है। संभावित नामों को लेकर प्रदेश स्तर पर सहमति बन गई है।

मंत्रिमंडल विस्तार में कई नए चेहरों को भी शामिल किया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि इनमें प्रेम सिंह पटेल, चेतन कश्यप, मोहन यादव और अरविंद भदौरिया के नाम संभावित हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पुरानी टीम से गोपाल भार्गव, विजय शाह, गौरीशंकर बिसेन, यशोधरा राजे, राजेंद्र शुक्ला, रामपाल सिंह और भूपेंद्र सिंह ठाकुर के नाम संभावित सूची में शामिल है।

वहीं, भोपाल से विश्वास सारंग, इंदौर से रमेश मेंदोला और मालिनी गौड़ के नामों की भी चर्चा है। बता दें कि मध्यप्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार मई के आखिर और जून के पहले सप्ताह में संभावित था जिसमें पहले ही देरी हो चुकी है। अगले महीने मानसून सत्र शुरू होगा, ऐसे में संवैधानिक रूप से मंत्रिमंडल विस्तार जरूरी हो गया है।

(साभार-अमर उजाला)

फाइल फोटो