Home रतलाम मेडिकल कालेज को लेकर तेज हुई राजनीति, सांसद भूरिया पहुंचे मेडिकल कालेज...

मेडिकल कालेज को लेकर तेज हुई राजनीति, सांसद भूरिया पहुंचे मेडिकल कालेज , यूपीए सरकार की देन बताते हुए मान्यता को लेकर लापरवाही और लेतलतीफी का लगाया आरोप।

रतलाम, 4 मई(खबरबाबा.काम)। शहर में बन रहे मेडिकल कालेज को एमसीआई द्वारा वर्तमान में मान्यता नहीं मिलने के बाद इसे लेकर राजनीति तेज हो गई है। शुक्रवार को क्षैत्रिय सांसद कांतिलाल भूरिया मेडिकल कालेज के निरीक्षण पर पहुंचे और लेटलतीफी का आरोप लगाते हुए राज्य शासन को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया।

रतलाम में इस वर्ष से मेडिकल कॉलेज में शिक्षण सत्र शुरू होना था, इसके लिए प्रोफेसर व डॉक्टर्स की नियुक्तियां भी हो गयी थी , लेकिन वर्तमान में इस वर्ष से कॉलेज शुरू होने की मान्यता नही मिल पाई , अब मेडिकल कॉलेज को लेकर कांग्रेस कोई मौका नही छोडऩा चाहती है और इस मामले में अब सियासत तेज हो गयी है। सासंद श्री भूरिया कांग्रेस नेताओं के साथ शुक्रवार सुबह मेडिकल कॉलेज भवन पहुंचे। इस दौरान जिला पंचायत सीईओ सोमेश मिश्रा सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी भी वहां मौजूद रहे। इस दौरान सांसद ने जुलाई से नवीन सत्र प्रारंभ करने की तैयारियों को लेकर जानकारी मांगी। अधिकारियों द्वारा बताया गया कि तैयारियां समय सीमा के अनुसार चल रही हैं और कोशिश की जा रही है कि जल्द ही कार्य पूरा कर लिया जाएगा। इस दौरान संबंधित ठेकेदार ने बताया कि कार्य पूरा करने के लिए उन्हें अगस्त 2018 तक की समय सीमा दी गई थी।  हालांकि संबंधित अधिकारियों ने बताया कि इस जुलाई में नवीन सत्र प्रारंभ करने के लिए भवन निर्माण, फर्नीचर सहित बाकी सभी काम पूरे कर लिए गए हैं। इस दौरान सांसद श्री भूरिया ने अधिकारियों को तल्ख लहजे में कहा कि मेडिकल कॉलेज इसी साल के सत्र में प्रारंभ होना चाहिए। सासंद ने निर्देशित किया कि आने वाले 26-27 दिनों में नीट के लिए सीट आवंटन की प्रक्रिया में शामिल होने के लिए सभी जरूरी दस्तावेज पूरे कर लिए जाएं।

यूपीए सरकार की है देन:सासंद

सांसद भूरिया ने मीडीया से चर्चा में कहा कि रतलाम मेडिकल कॉलेज के लिए लंबे समय से प्रयास कर रहे थे। यूपीए सरकार ने इसकी जरूरत को समझते हुए मेडिकल कालेज स्वीकृत करते हुए कार्य शुरु करवाने के लिए 200 करोड़ की राशि भी प्रदान कर दी थी। इसके बाद भी राज्य और ठेकेदार की लापरवाही  के कारण मेडिकल कॉलेज में थोडी देरी हुई है। अब कोशिश की जाएगी कि किसी भी कारण से देरी न हो और इसी सत्र में कॉलेज में अध्य्यन का कार्य शुरु करवाया जा सके। मैं इस सबंध में कैन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री से भी चर्चा करुंगा।श्री भूरिया ने कहा कि किसी भी परिस्थिति में मेडिकल कॉलेज की मान्यता रद्द नहीं होने दी जाएगी। माह अगस्त तक मेडिकल कॉलेज के शेष बचे कार्य भी पूर्ण करते हुए कॉलेज शुरू कर दिया जाएगा। आपने कहा कि मेडिकल कॉलेज प्रारम्भ करना हमारी पहली प्राथमिकता है। कॉलेज परिसर में बिजली तथा पानी की जो समस्या हैउसे भी शीघ्र दूर करने का प्रयास किया जाएगा। आपने कहा कि मेडिकल कॉलेज परिसर में शीघ्र ही एक बीएसएनएल का टावर लगाया जाएगा जिससे मोबाइल सिग्नल नहीं मिलने की समस्या से निजात मिलेगी। सांसद भूरिया के साथ कांग्रेस के स्थानीय नेता भी मौजुद थे।

ज्ञातव्य है कि रतलाम  मेडिकल कॉलेज पिछले चुनावों से बड़ा राजनीतिक मुद्दा रहा है। आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए राज्य योजना आयोग उपाध्यक्ष व रतलाम शहर विधायक चेतन काश्यप इस वर्ष से मेडिकल कालेज में शिक्षण सत्र शुरू करने का आश्वासन भी दे चुके है ,लेकिन वर्तमान में एमसीआई द्वारा मान्यता न मिलने पर मेडिकल कालेज को लेकर सियासत तेज हो गयी है और अब कांग्रेस मेडिकल कालेज का  श्रेय लेकर इसे जल्द शुरू करवाने की बात कह रही है।

———-