Home मध्यप्रदेश रतलाम: उज्जैन संभाग के सभी जिले 31 मई तक कोरोना संक्रमण दर...

रतलाम: उज्जैन संभाग के सभी जिले 31 मई तक कोरोना संक्रमण दर शून्य पर ले आने का संकल्प लें,सीएम ने समीक्षा बैठक में दिए यह निर्देश

रतलाम, 19 मई (खबरबाबा.काम)/ प्रदेश के मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश की जनता, जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों और शासकीय अमले के समन्वित प्रयासों से हम प्रदेश में कोरोना संक्रमण काबू करने की स्थिति में आ गए हैं। अभी हम अतिआत्मविश्वास में न आएं और किसी तरह की ढील न दें। उन्होंने उज्जैन संभाग के सभी जिलों की उज्जैन से समीक्षा करते हुए कहा कि उज्जैन संभाग के सभी जिले कोरोना की संक्रमण दर को 31 मई तक शून्य पर लाने का संकल्प लें।

समीक्षा के दौरान रतलाम एनआईसी कक्ष में रतलाम सांसद  गुमानसिंह डामोर, विधायक रतलाम शहर  चैतन्य काश्यप, विधायक जावरा डॉ. राजेंद्र पांडे, विधायक रतलाम ग्रामीण  दिलीप मकवाना,  राजेंद्रसिंह लुनेरा,  गोविंद काकानी,  वीरेंद्र पाटीदार, पुलिस उपमहानिरीक्षक  सुशांत सक्सेना, कलेक्टर  कुमार पुरुषोत्तम, जिला पुलिस अधीक्षक  गौरव तिवारी, जिला पंचायत सीईओ श्रीमती मीनाक्षीसिंह, एडीएम श्रीमती जमुना भिडे, मेडिकल कॉलेज डीन डॉ. जितेंद्र गुप्ता मौजूद थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी जिलों की समीक्षा के उपरांत उद्बोधन में कहा कि संभाग के सभी जिलों में किल कोरोना अभियान निरंतर जारी रखें। यह अभियान जून में भी जारी रहेगा। कोरोना टेस्ट की संख्या किसी भी स्थिति में कम न करें। अधिकतम टेस्ट करें तभी हम संक्रमण की चैन को तोड़ पाएंगे। होम आइसोलेशन में लोगों को योग से निरोग जैसे प्रयासों से प्रोत्साहित करें। जिन्हें होम आइसोलेशन में कोई परेशानी हो उन्हें कोविड केयर सेंटर में भर्ती करवाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए हमें अभी से तैयारी रखनी है। प्रदेश में पैरा मेडिकल स्टाफ की भर्ती की जा रही है। नर्स और डॉक्टर की भर्ती भी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ब्लैक फंगस के लिए इंजेक्शन की व्यवस्था की जा रही है। यह मिलते ही जिलों में इन्हें वितरित किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री सिंह ने कहा कि हर जिले में पोस्ट कोविड केयर सेंटर बनाएं। वहां संक्रमण मुक्त होने के उपरांत किसी मरीज को कोई परेशानी है तो उसे भर्ती करें। ब्लैक फंगस, रक्त के थक्के जमने जैसी समस्या वालों को भी यहां भर्ती करें। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन अधिक से अधिक करवाएं, वैक्सीन का कोई भी डोस व्यर्थ न जाने दें।

मुख्यमंत्री ने सभी कलेक्टर को निर्देशित किया कि सभी जिलों में राशन का वितरण व्यवस्थित हो। कोई भी पात्र राशन के बगैर न रहे। बेसहारा हुए बच्चों को पेंशन योजना से लाभान्वित करने के लिए उन्हें चिन्हित कर लें। प्रदेश के शहरी स्ट्रीट वेंडर के खाते में राशि जमा कर दी गई है। अब ग्रामीण स्ट्रीट वेंडर, भवन संनिर्माण मजदूरों के खातों में भी शीघ्र ही धनराशि जमा की जाएगी ताकि उनकी जीवनचर्या भी ठीक से चल सके।

विशेष कार्ययोजना बनाएं

मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान ने संभाग के सभी जिलों की समीक्षा की। रतलाम की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री श्री सिंह ने कहा कि रतलाम में संक्रमण के केस अभी कम नहीं हुए हैं। इसलिए जहां ज्यादा संक्रमण के केस मिल रहे हैं वहां के लिए अलग से योजना बनाएं। माइक्रो कंटेनमेंट एरिया बनाएं। गांव की क्रायसेस मैनेजमेंट कमेटी को सक्रिय करें। कलेक्टर  कुमार पुरुषोत्तम ने बताया कि जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में संक्रमण की दर को कम करने के लिए विशेष कार्य योजना बनाकर प्रयास किए जा रहे हैं । पिछले सात दिनों में जिले में एक्टिव केस घटे हैं। अस्पतालों में मरीजों को बेड की उपलब्धता हो रही है। रतलाम जिले में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने की प्रक्रिया भी जारी है। उन्होंने बताया कि रतलाम शहर में 110 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं इसके परिणाम बेहतर मिले हैं, यहां केस कम हुए हैं। इसी तरह पूरे जिले में 400 से अधिक माइक्रो कंटेनमेंट क्षेत्र बनाए गए हैं। उन्होंने रतलाम जिले में अब तक किए गए प्रयासों की विस्तृत जानकारी प्रदान की।

सांसद  गुमानसिंह डामोर इस अवसर पर कहा कि प्रदेश के बेसहारा बच्चों के लिए जो योजना मुख्यमंत्रीजी द्वारा प्रारंभ की गई है वह इन बच्चों के जीवन में नई रोशनी बिखेरेगी। उन्होंने कहा कि रतलाम में सीटी स्कैन मशीन शीघ्र आ जाए तो एक बड़ी कमी पूरी होगी। ब्लैक फंगस के लिए भी इंजेक्शन की उपलब्धता हो ताकि पेशेंट को किसी तरह की परेशानी नहीं हो।

रतलाम शहर विधायक  चैतन्य काश्यप ने कहा कि पिछले समय में हुए समन्वित प्रयासों से रतलाम शहर में संक्रमण नियंत्रित हुआ है। मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन प्लांट शीघ्र ही चालू होने वाला है, इसके बाद 100 ऑक्सीजन बेड और बढ़ाए जा सकेंगे। श्री काश्यप ने कहा कि रतलाम मेडिकल कॉलेज में नर्सिंग स्टाफ की कमी है, इसे शीघ्र पूरा किया जाए। उन्होंने सीटी स्कैन मशीन  के संबंध में कहा कि इन मशीनों का ऑर्डर तो हो चुका हैं मगर उनकी डिलीवरी अब तक नहीं हो पा रही है। यदि ये मशीन शीघ्र उपलब्ध हो जाए तो रतलाम की जनता को बड़ी राहत मिलेगी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में जून में खेती-किसानी किसानी की गतिविधियां प्रारंभ हो जाएगी, इसलिए इस संबंध में प्रदेश स्तर से आवश्यक निर्देश जारी किए जाएं। उन्होंने जलकर एवं बिजली बिल को 30 जून तक अधिभार से मुक्त रखने का भी आग्रह किया। श्री काश्यप ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में अगला समय चुनौती का रहेगा, इसलिए इन क्षेत्रों में विशेष प्रयास किए जाना आवश्यक है। श्री काश्यप ने कहा कि ब्लैक फंगस के लिए इंजेक्शन संबंधी अधिकार कलेक्टर स्तर पर दिए जाएं ताकि पीड़ितों को आसानी से यह सुविधा प्राप्त हो सके।

जावरा विधायक डॉ. राजेन्द्र पांडे ने कहा कि रतलाम मेडिकल कॉलेज द्वारा किए गए प्रयासों की सर्वत्र प्रशंसा हो रही है। यहां नर्सेज और मेन पावर काफी कम है। इसके साथ ही स्वास्थ्य केंद्रों पर एएनएम की कमी महसूस की जा रही है, इस कमी को पूरा कर दिया जाए तो जिले में स्वास्थ्य सेवाओं को और अधिक मजबूत किया जा सकेगा। उन्होंने कहां थी जावरा में विधायक निधि तथा स्थानीय स्तर पर समाजसेवियों द्वारा दिए गए सहयोग द्वारा ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना की जा रही है। इस प्लांट की स्थापना से यहां ऑक्सीजन बैड की संख्या बढ़ जाएगी। डा.पांडे ने कहा कि तहसील स्तर पर रोगी कल्याण समितियों की आर्थिक स्थिति कमजोर है। इन समितियों को यदि तत्काल संसाधन जुटाने के लिए धनराशि उपलब्ध करा दी जाए तो काफी कार्य हो सकते हैं ।

रतलाम ग्रामीण विधायक  दिलीप मकवाना ने कहा कि रतलाम ग्रामीण क्षेत्र में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की एवं बैड बढ़ाने की व्यवस्था की जा चुकी है। ग्रामीण क्षेत्र में संक्रमण कहीं अधिक है। पिछले दिनों किए गए प्रयासों से स्थिति में सुधार हो रहा है।  राजेन्द्रसिंह लुनेरा ने कॉपरेटिव बैंक के माध्यम से किसानों की आवश्यकताओं की पूर्ति तथा वैक्सीनेशन बढ़ाने के लिए विशेष प्रयास किए जाने संबंधी आग्रह किया।