Home रतलाम रतलाम: जिला प्रशासन ने निजी पेथालॉजी लेबोरेटरी में डेंगू और अन्य जांच...

रतलाम: जिला प्रशासन ने निजी पेथालॉजी लेबोरेटरी में डेंगू और अन्य जांच की दरें तय की, जानिए किस जांच के लिए कितनी दर निर्धारित

रतलाम 23 सितंबर 2021/  रतलाम जिले के निजी पैथालॉजी लेब संचालकों एवं नर्सिंग होम संचालको की बैठक न्‍यू कलेक्‍टोरेट सभाकक्ष में संपन्‍न की गई। बैठक के दौरान कलेक्‍टर श्री कुमार पुरूषोत्‍तम ने निजी लेब संचालकों की बैठक में कहा कि डेंगू के बढते प्रकरणों के कारण मरीजों से डेंगू की जॉच हेतु मानवीयता को दृष्टिगत रखते हुए निर्धारित शुल्‍क ही लिया जाए ।

कलेक्‍टर श्री कुमार पुरूषोत्‍तम के निर्देश एवं  निजी पैथालॉजी लेब संचालकों की सहमति के आधार पर डेंगू संबधी प्‍लेटलेट की जॉच हेतु 100 रूपये, प्‍लेटलेट सहित सीबीसी परीक्षण के लिए 250 रूपये, डेंगू की जॉच हेतु 600 रूपये, विडाल जॉच हेतु 100 रूपये बीएमपी अर्थात मलेरिया परीक्षण के लिए 80 रूपये की राशि का चार्ज निजी पैथोलॉजी हेतु निर्धारित किया गया है। इससे अधिक राशि लेने वाले लेब संचाल‍कों के विरूद्व मुख्‍य चिकित्सा एवं स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारी द्वारा नियमानुसार कठोर कार्यवाही की जाएगी । कलेक्‍टर श्री कुमार पुरूषोत्‍तम ने आमजन से आग्रह किया है कि निर्धारित दर से अधिक राशि लेने की दशा में मरीज अथवा उसके परिजन रतलाम जिले में 1075 नंबर पर शिकायत दर्ज करा सकते हैं ।

कलेक्‍टर श्री कुमार पुरूषोत्‍तम ने बैठक के दौरान निजी नर्सिंग होम संचालकों से बेड की उपलब्‍धता एवं डेंगू मरीजों के सामान्‍य रूप से भर्ती अवधि के बारे में विस्‍तार से जानकारी ली तथा मरीजों के प्रति संवेदनशील दृष्टिकोण अपनाने के निर्देश दिए। निजी अस्‍पताल एवं पैथालॉजी लेब संचालको ने डेंगू से बचाव के लिए हरसंभव प्रयास करने की बात कही। बैठक में सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर ननावरे, ओआईसी हेल्‍थ डिप्‍टी कलेक्‍टर सुश्री शिराली जैन तथा निजी नर्सिंग होम संचालक एवं पैथालॉजी संचालक उपस्थित रहे ।

निजी और सरकारी स्‍कूलों में प्रारंभिक पीरियड में डेंगू से बचाव हेतु स्‍वास्‍थ्‍य शिक्षा देना अनिवार्य

कलेक्‍टर श्री कुमार पुरूषोत्‍तम ने बैठक के दौरान जिले के सहायक संचालक स्‍कूल शिक्षा विभाग को निर्देशित किया कि आगामी 7 दिन तक जिले के सभी सरकारी और प्रायवेट स्‍कूलों में प्रार्थना सत्र के बाद पहले पीरियड में बच्‍चों को डेंगू से बचाव हेतु स्‍कूली शिक्षकों द्वारा स्‍वास्‍थ्‍य शिक्षा दी जाए जिसमें डेंगू से बचाव के तरीको की जानकारी विस्‍तार से दी जाए । विद्यार्थी स्‍वास्‍थ्‍य शिक्षा प्राप्‍त करने के बाद अपने परिवार जनों को डेंगू से बचाव के बारे में जानकारी देंगे । सभी आमजन अपने घरों के आसपास पानी इकटठा ना होने दें। गमलों में भरे पानी को खाली करें एवं छत पर पानी बिल्‍कुल इकटठा ना होने दें। डेंगू का मच्‍छर रूके हुए पानी में पनपता है। घरों के आसपास यदि पुराने टायर आदि हों तो उनको तत्‍काल हटा देना चाहिए। कोई भी बुखार होने पर अपने नजदीकि सरकारी अस्‍पताल में जॉच उपचार कराऐं ।