Home रतलाम रतलाम: जिले के इन स्थानों को धार्मिक पर्यटन केन्द्र के रुप में...

रतलाम: जिले के इन स्थानों को धार्मिक पर्यटन केन्द्र के रुप में विकसित किया जाएगा, बनेगा मास्टर प्लान, यह कार्य होंगे

News by- Sourabh kothari

रतलाम 22 सितंबर 2021/ जिले के विरुपाक्ष महादेव मंदिर, कंवलका माता मंदिर, हिंगलाज माता मंदिर को ग्रामीण पर्यटन केन्द्र के रुप में विकसित किया जाएगा।

       

             रतलाम जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में विरुपाक्ष महादेव मंदिर, कंवलका माता मंदिर, हिंगलाज माता मंदिर, महाकाल मंदिर धराड का भ्रमण ग्रामीण विधायक श्री दिलीप मकवाना, कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम, पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी, जिला वन मण्डलाधिकारी श्री डोडवे, एसडीएम श्री अभिषेक गेहलोत, ईईपीआईयु, ईईआरईएस तथा श्री अशोक पाटीदार, श्री शंकरलाल पाटीदार, श्री आनन्दीलाल राठौड, श्री ईश्वरलाल पाटीदार, सरपंच श्री कन्हैयालाल मालवीय, सरपंच प्रतिनिधि श्री कमलेश शर्मा, श्री संदीप शर्मा तथा सुभाष गोयल एवं अन्य जनप्रतिनिधियों के साथ किया गया।

भ्रमण के दौरान स्थानीय समाजसेवी श्री अशोक पाटीदार ने विरुपाक्ष महादेव मंदिर बिलपांक की धार्मिक एवं प्राचीन पृष्ठभूमि के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ग्राम बिलपांक में विरुपाक्ष महादेव मंदिर प्राचीन काल से आस्था का केन्द्र रहा है, जहां पर शिवरात्रि पर्व पर बडी संख्या में आसपास के क्षेत्रों से धर्मालुजन उपस्थित होते हैं। इस क्षेत्र को धार्मिक पर्यटन केन्द्र के रुप में विकसित किया जाना आवश्यक है। इसके लिए बिलपांक क्षेत्र के सभी निवासी सहयोग हेतु तत्पर हैं।

कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम ने क्षेत्र के विकास के लिए ग्रामवासियों से आसपास के क्षेत्र में बने मकानों के रहवासियों को अन्यत्र बसाहट करने की बात कही। ग्रामीणजनों द्वारा कहा गया कि अन्यत्र स्थान पर जाने हेतु पट्टे प्राप्त पर सहमति प्रदान की गई। कलेक्टर ने एसडीएम ग्रामीण श्री अभिषेक गेहलोत को यह कार्य 30 अक्टूबर तक सम्पन्न किए जाने के निर्देश दिए।  कलेक्टर ने कहा कि ग्रामाण क्षेत्र के तीनों स्थानों को ग्रामीण पर्यटन केन्द्र के रुप में विकसित करने के लिए मास्टर प्लान बनाया जाए। मास्टर प्लान के दौरान किए जाने वाले कार्य की फेसवाईस रुपरेखा तैयार की जाए, जिसमें निर्धारित समयावधि में कार्यों को चरणबद्ध रुप से पूर्ण किया जा सके। तीनों क्षेत्रों के पर्यटन केन्द्र के रुप में विकास के लिए श्री चतुर्वेदी की अध्यक्षता में तीन लोगों की टीम को आमंत्रित कर लिया गया था। श्री चतुर्वेदी ने बताया कि उनके द्वारा इंदौर में राजवाडा क्षेत्र और बांके बिहारी मंदिर का कार्य किया गया है। इस कार्य को उनकी एजेंसी के द्वारा पूर्ण किया जाएगा।

कलेक्टर ने धार्मिक क्षेत्रों के लिए समिति की गठन कर कार्य पूर्ण करने की बात कही। उन्होंने स्पष्ट किया कि एसडीएम श्री गेहलोत उक्त तीनों कार्यों के लिए जिला प्रशासन की ओर से नोडल अधिकारी के रुप में नामांकित अधिकारी रहेंगे। कलेक्टर ने स्पष्ट किया कि विरुपाक्ष महादेव मंदिर सहित तीनों स्थानों पर सेनिटेशन, पेयजल, रिपेयरिंग आदि की व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएगी।

कंवलका माता मंदिर पहाडी को आकर्षक रुप प्रदान किया जाएगा

स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि यहां का क्षेत्र 256 हेक्टेयर एरिये में है, इसके लिए पानी की व्यवस्था की जाना आवश्यक है। कलेक्टर ने उक्त कार्य जनसहयोग तथा विभागीय माध्यमों से कराए जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि इस पहाडी को एडवेंचर गतिविधियां, नाइट कैंपेनिंग, ट्रेकिंग आदि के साथ-साथ बच्चों के लिए स्टडी के दौरान भ्रमण क्षेत्र के रुप में विकसित किया जाएगा। स्थानीय सरपंच श्री कन्हैयालाल मालवीय ने जनसहयोग से पानी की व्यवस्था पहाडी तक लाने के लिए हरसंभव सहयोग देने की बात कही। पहाडी के ऊपरी तल को समतल करते हुए पोलिथिनमुक्त क्षेत्र के रुप में विकसित किया जाएगा। इस क्षेत्र में हर्बल गार्डन तथा बाटनीकल गार्डन जैसी व्यवस्थाएं भी विकसित की जाएंगी।

कलेक्टर ने हिंगलाज माता मंदिर जाने वाले कच्चे मार्ग का निरीक्षण किया। श्री अशोक पाटीदार ने बताया कि इस कच्चे मार्ग को पक्की रोड के रुप में विकसित करने के लिए सभी ग्रामीणवासी एकजुट होकर राशि एकत्रित कर रहे हैं तथा पक्की रोड के रुप में विकास किया जा रहा है। कलेक्टर ने तीनों क्षेत्रों का विकास संबंधी कार्य पीआईयु के माध्यम से करवाने के निर्देश दिए। कलेक्टर सहित भ्रमण दल का धार्मिक स्थानों पर स्वागत कर अभिनन्दन किया गया।