Home रतलाम रतलाम: जिले में परिसमापन में लाई गई 149 सहकारी संस्थाओं के पंजीयन निरस्त होंगे,जानिए...

रतलाम: जिले में परिसमापन में लाई गई 149 सहकारी संस्थाओं के पंजीयन निरस्त होंगे,जानिए कौन-कौन सी संस्थाएं है शामिल

रतलाम 5 नवम्बर 2019/ जिले में निष्क्रिय पड़ी  सहकारी संस्थाओं के पंजीयन निरस्त करने की कार्रवाई की जा रही है, वे संस्थाएं जो कार्य नहीं कर रही हैं या अपने उद्देश्यों की प्राप्ति में असफल रही है इस प्रकार की कुल 149 सहकारी संस्थाएं परीसमापन में लाई गई थी इनके पंजीयन निरस्त करने के लिए परीसमापकों को निर्देशित किया गया है प्रथम चक्र में जिले की बिल्कुल निष्क्रिय 55 संस्थाओं का पंजीयन निरस्त करके सहकारिता के पटल से इनका नाम हटाया जाना है

उपायुक्त सहकारिता ने बताया कि जिन 55 संस्थाओं का पंजीयन निरस्त करके सहकारिता के पटल से नाम हटाया जाएगा उनमें दुग्ध सहकारी समिति मर्यादित लसूडियाखेड़ी, सुजलाना, शेरपुर, नंदावता, कामलिया, बोरवाना, मांडवी, किशनगढ़, आक्यापरवल, पीर हिंगोरिया, भाकरखेड़ी, बोरदा, मचून, रत्तागढ़खेड़ा, किलगारी, धामेडी, एरवास, बोदीना, कनसेर, करिया, उमरन, कुआंझागर, सेमलिया, ताल, सिनोद, लसूडिया जंगली, रिंगनिया, बिनोली, काकरवा, नवेली, जेठाना, बड़ौदा, डोडियाना, श्री हनुमान बीज उत्पादक सहकारी संस्था मर्यादित करिया, श्री बालाजी बीज उत्पादक सहकारी संस्था मर्यादित मऊखेड़ी, आदर्श बीज उत्पादक सहकारी संस्था मर्यादित रियावन, किसान कल्याण बीज उत्पादक सहकारी संस्था कोट कराडिया, माही बीज उत्पादक सहकारी संस्था बाजना, राजेश्वरी बीज उत्पादक सहकारी संस्था जोयन, श्री राम बीज उत्पादक सहकारी संस्था सिमलावदा, अंबिका बीज उत्पादक सहकारी संस्था कलालिया, आदर्श बीज उत्पादक सहकारी संस्था सरवनी जागीर, महालक्ष्मी बीज उत्पादक सहकारी संस्था करमदी, बालाजी बीज उत्पादक सहकारी संस्था कामलिया, सांवरिया बीज उत्पादक सहकारी संस्था बाजनखेड़ा, महावीर बीज उत्पादक सहकारी संस्था पथवारी, नवदुर्गा बीज उत्पादक सहकारी संस्था खेड़ी, बालाजी बीज उत्पादक सहकारी संस्था रानीसिंग, श्री गणेश बीज उत्पादक सहकारी संस्था सालरापाड़ा, श्री चारभुजा नाथ बीज उत्पादक सहकारी संस्था मर्यादित नामली, जय अंबे बीज उत्पादक सहकारी संस्था करिया, श्री राम बीज उत्पादक सहकारी संस्था हतनारा, जय बजरंग बीज उत्पादक सहकारी संस्था सकरावादा, साईं बीज उत्पादक सहकारी संस्था तीतरी शामिल है उपरोक्त संस्थाओं से संबंधित कोई भी मामला संस्था के भूतपूर्व या वर्तमान सदस्य से संबंधित हो तो वह संबंधित परिसमापक से संपर्क कर सकता है