Home रतलाम रतलाम मेडिकल कालेज में नौकरी के नाम पर लाखों की ठगी का...

रतलाम मेडिकल कालेज में नौकरी के नाम पर लाखों की ठगी का मामला: रतलाम सहित इंदौर,उज्जैन और अन्य शहरों के सैकड़ो युवा हुए शिकार, फर्जी सूची और नियुक्ति आदेश भी जारी कर दिए

रतलाम,27मई(खबरबाबा.काम)/ मेडिकल कॉलेज में नौकरी दिलाने के नाम पर हुई लाखों की ठगी के मामले में पुलिस जांच के दौरान चौकाने वाले खुलासे हो रहे है। पुलिस के अनुसार ठगी के शिकार एक-दो लोग नही बल्की 130 के लगभग युवा हुए है और लगभग कुल 60 लाख की ठगी को अंजाम दिया गया है।

एसपी गौरव तिवारी ने बताया कि मामले की जांच के दौरान जो तथ्य सामने आए हैं उसमें रतलाम के अलावा धार, झाबुआ, मंदसौर, उज्जैन, इंदौर और देवास तक के युवा शामिल है। आरोपियों ने नौकरी के नाम पर न सिर्फ इन युवाओं से लाखों की ठगी की वारदात को अंजाम दिया बल्कि नौकरी पर रखे जाने के लिए फर्जी सूची और फर्जी नियुक्ति आदेश तक जारी कर दिए।

क्या है मामला

ज्ञातव्य है कि शुभम श्री कालोनी निवासी राहूल डामोर की शिकायत पर औद्योगिक क्षेत्र थाना पुलिस ने शहर सराय निवासी नरेन्द्र टांक और डोंगरे नगर निवासी सुखदेव कुशवाह के खिलाफ धोखाधड़ी एवं कुटज दस्तावेज की धारा में प्रकरण दर्ज किया है। आरोपियों पर मेडिकल कॉलेज में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों की ठगी करने का आरोप है। पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार फरियादी राहुल से आरोपियों ने तीन लाख रु.के एवज में मेडीकल कालेज में नौकरी दिलाने का वादा किया था। फरियादी ने आरपियों की बातों में आकर उसे तीन लाख रु.भी दे दिए थे। राहूल डामोर ने जनवरी 2021 में नौकरी के लिए तीन लाख रु. दिए थे,लेकिन आज दिनांक तक आरोपी उसे झांसा ही देते रहे कि उसकी नौकरी लगने ही वाली है। आखिरकार परेशान होकर राहूल औद्योगिक क्षेत्र पुलिस थाने पर पंहुचा। राहूल की शिकायत पर जब पुलिस ने प्रारंभिक जांच की तो और भी चौंकाने वाली जानकारियां सामने आई। आरोपियों की ठगी का शिकार इकलौता राहूल नहीं है,बल्कि उन्होने सौ से भी ज्यादा लोगों को इसी तरह ठगी का शिकार बनाया है। आरोपीगण अपने शिकार को भरोसे में लेने के लिए उसे फर्जी काल लेटर और यहां तक कि नियुक्ति पत्र भी बनाकर दे देते थे। टीआई औद्योगिक क्षेत्र नीरज सारवान के मुताबिक विस्तृत जांच के बाद ही यह साफ हो पाएगा कि आरोपियों ने कुल कितने लोगों के साथ धोखाधडी की है और कितने रुपए की धोखाधडी हुई है। लेकिन यह तय है कि आरोपियों ने लाखों रुपए की धोखाधडी की है। औद्योगिक क्षेत्र पुलिस ने राहूल की शिकायत पर नरेन्द्र टांक और सुखदेव कुशवाह के खिलाफ कूट रचित दस्तावेज बनाने और धोखाधडी करने की धाराओं भादवि की धारा 419,420, 467,468,471 और 34 के तहत प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच शुरु कर दी है। आरोपियों की तलाश की जा रही है।