Home रतलाम रतलाम: मौसमी बीमारियों से बचाव के लिए विधायक श्री काश्यप ने नगर...

रतलाम: मौसमी बीमारियों से बचाव के लिए विधायक श्री काश्यप ने नगर निगम को शहर में कीटनाशकों के छिड़काव, नालों की सफाई एवं अन्य आवश्यक कार्य तत्काल करने के निर्देश बैठक में दिए

रतलाम 27 अक्टूबर 2020/ जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में मंगलवार को संपन्न हुई। बैठक में विधायक शहर श्री चैतन्य काश्यप ने नगर निगम को निर्देशित किया कि मौसमी बीमारियों से नागरिकों के बचाव के लिए तत्काल शहर में कीटनाशकों का छिड़काव, नालों की सफाई तथा अन्य आवश्यक कदम उठाए जाएं। बैठक में जिला पंचायत  प्रधान श्री परमेश मईडा, कलेक्टर श्री गोपालचंद्र डाड, एसडीएम शहर श्री अभिषेक गहलोत, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रभाकर ननावरे, सिविल सर्जन डॉ. आनंद चंदेलकर, महिला बाल विकास विभाग की कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती विनीता लोढ़ा, सहायक संचालक सुश्री अंकिता पंड्या, नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी श्री ए.पी. सिंह आदि उपस्थित थे। कलेक्टर श्री गोपालचंद्र डाड द्वारा जिले में संचालित स्वास्थ्य कार्यक्रमों योजनाओं की समीक्षा की जाकर आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।

बैठक में कलेक्टर ने गर्भवती महिलाओं की एएनसी जांच समीक्षा में पिपलोदा तथा आलोट विकासखंडों में अपेक्षित प्रगति नहीं पाए जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए खंड चिकित्सा अधिकारियों को कार्रवाई की चेतावनी दी। साथ ही खंड स्तरीय कार्यक्रम प्रबंधकों को भी चेतावनी देते हुए कहा कि प्रगति नहीं लाए जाने पर बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी। रतलाम शहर के आंकड़ों में  विसंगति पाए जाने पर शहर विधायक श्री काश्यप ने कहा कि धरातल स्तर की जानकारी दुरुस्त नहीं होने से योजनाओं का लक्ष्य प्राप्त नहीं किया जा सकता है। साथ ही गर्भवती महिलाओं की स्थिति पता चलने में भी कठिनाई होती है। कलेक्टर ने निर्देश दिए कि महिला बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारी तथा स्वास्थ्य विभाग के खंड चिकित्सा अधिकारी आपस में समन्वय कर आंकड़ों का मिलान करें, दुरुस्त जानकारी प्रस्तुत की जाए।

जननी सुरक्षा योजना की समीक्षा में कलेक्टर ने निर्देश दिए कि आंकड़ों में भिन्नता को दूर करने के लिए खंड चिकित्सा अधिकारी अपने क्षेत्र की समीक्षा करें। विधायक श्री काश्यप ने कहा कि जननी सुरक्षा की राशि हितग्राही के खाते में आने पर बैंक से एसएमएस प्राप्त होना चाहिए। साथ ही जिले में शत-प्रतिशत टीकाकरण लक्ष अनुरूप किया जाना सुनिश्चित करें। मातृ मृत्यु दर तथा शिशु मृत्यु दर की भी समीक्षा की गई। बैठक में जावरा, पिपलोदा विकासखंडों की प्रगति रिपोर्ट उचित ढंग से सही रूप में प्राप्त नहीं होने पर दोनों खंड चिकित्सा अधिकारियों के प्रति नाराजगी व्यक्त की गई।

प्रसव पश्चात अस्पतालों से शिशु तथा माताओं को डिस्चार्ज करते समय उनकी स्वास्थ्य जांच सुनिश्चित करने के निर्देश कलेक्टर द्वारा एमसीएच के प्रभारी अधिकारी को खासतौर पर दिए गए। इसी प्रकार अनमोल एप पर शत-प्रतिशत बच्चों के पंजीयन तथा सघन मानिटरिंग के लिए भी निर्देशित किया गया। गैरसंक्रामक बीमारियों से ग्रस्त व्यक्तियों की जांच के लिए संचालित योजना की समीक्षा में बताया गया कि जिले में गैरसंक्रामक बीमारियों में अधिकतर व्यक्ति डायबिटीज, हाइपरटेंशन तथा कार्डियक संबंधि समस्याओं से ग्रस्त हैं। विधायक श्री काश्यप ने निर्देशित किया कि उक्त प्रकार के मरीजों को दवाएं अपने सामने ही स्वास्थ्य कार्यकर्ता द्वारा खिलाई जाए इस प्रकार की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। कलेक्टर द्वारा कोविड 19 के सैंपल लक्ष्य अनुसार प्राप्त करने के लिए निर्देश सभी खंड चिकित्सा अधिकारियों को दिए गए। कलेक्टर ने कहा कि यदि खंड चिकित्सा अधिकारियों द्वारा कोरोना सैंपल लक्ष्य अनुसार नहीं लिए गए तो उनको शोकाज नोटिस दिए जाकर कार्रवाई की जाएगी।