Home रतलाम रतलाम रेंज की 54 अनसुलझी हत्याओं के खुले घूम रहे आरोपियों को...

रतलाम रेंज की 54 अनसुलझी हत्याओं के खुले घूम रहे आरोपियों को कानून के शिकंजे में लाने के लिए शुरू होगा ‘ऑपरेशन उजागर’। रतलाम रेंज डीआईजी गौरव राजपूत के निर्देशन में फिर खुलेगी अनसुलझे अंधेकत्लों की फाइलें

रतलाम,14मार्च(खबरबाबा.काम)। पिछले 10 वर्षों में रतलाम रेंज में हुई 50 से अधिक हत्याओं के आरोपी कानून के शिकंजे से दूर खुलेआम घूम रहे हैं। इन्हें कानून के शिकंजे में लाने के लिए रेंज के तीनों जिले रतलाम, मंदसौर और नीमच में अब पुलिस ऑपरेशन उजागर शुरू करेगी। डीआईजी गौरव राजपूत के निर्देशन में ऑपरेशन उजागर के तहत पुलिस तीनों जिलों के अनसुलझे अंधे कत्ल की फाइलें फिर खोलेगी और नए सिरे से उन मामलों की जांच शुरू होगी।

उल्लेखनीय है कि रतलाम रेंज डीआईजी का कार्यभार ग्रहण करने के बाद  पुलिस अधिकारियों की  पहली बैठक लेते हुए डीआईजी गौरव राजपूत ने अनसुलझे अंधेकत्लों को सुलझाने के लिए  योजनाबद्ध तरीके से कार्य करने की बात कही थी। इस संबंध में खबरबाबा.काम से चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि रतलाम रेंज के तीनों जिले रतलाम, मंदसौर, नीमच में पिछले 10 वर्षों से अनसुलझे अंधेकत्लों को सुलझाने के लिए ऑपरेशन उजागर शुरू किया जा रहा है। इसके लिए उन्होंने हर जिले से अनसुलझी हत्याओं की जानकारी मंगाई है।

रतलाम रेंज में कुल 54 ऐसे मामले

डीआईजी गौरव राजपूत ने बताया कि  तीनों जिलों से मंगाई गई जानकारी के बाद रतलाम रेंज में पिछले 10 वर्षों में अनसुलझी हत्याओं के  कुल 54 मामले सामने आए हैं।  इनमें रतलाम जिले के  अनसुलझे अंधेकत्ल के 22 मामले हैं ।वही मंदसौर के 24 और नीमच जिले के 8 मामले हैं। इन हत्याओं के आरोपी अभी तक खुले घूम रहे हैं।  डीआईजी श्री राजपूत ने बताया कि इन मामलों की फाइलें फिर खुलेगी और नए सिरे से जांच शुरू होगी । संबंधित थाने के थाना प्रभारी ही मामले की जांच करेंगे और वह स्वंय विवेचना की मानिटरिंग करेंगे।

एनडीपीएस के मामलों की होगी सख्त मानिटरिंग

रतलाम रेंज में मादक पदार्थों की तस्करी के मामलों में भी अब उच्च स्तर पर सख्त मॉनिटरिंग की जाएगी ।डीआईजी गौरव राजपूत ने बताया कि तीनों जिले के पुलिस अधिकारियों को निर्देश जारी किए गए हैं कि एनडीपीएस के मामले की जानकारी वे तत्काल अपने जिले के एसपी को देंगे और वहां से जानकारी डीआईजी  को दी जाएगी।