Home रतलाम रतलाम: शिकायत अटेंड नहीं करने पर संबंधित अधिकारी के विरुद्ध होगी कार्रवाई,...

रतलाम: शिकायत अटेंड नहीं करने पर संबंधित अधिकारी के विरुद्ध होगी कार्रवाई, दो अधिकारियों को शोकाज नोटिस, एसिंप्टोमेटिक पेशेंट के उपचार के लिए सैलाना में बनेगा कोविड-केयर सेंटर,जानिए कलेक्टर ने दिए क्या-क्या निर्देश

रतलाम 31 अगस्त 2020/ सीएम हेल्पलाइन में सभी विभाग शिकायतों, आवेदनों का संतुष्टिदायक निराकरण करें। किसी भी लेवल पर शिकायत अटेंड नहीं करने पर संबंधित अधिकारी के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। यह निर्देश कलेक्टर श्री गोपालचंद्र डाड ने सोमवार को समय सीमा पत्रों की समीक्षा बैठक में सभी विभागों के अधिकारियों को दिए। इस दौरान सीईओ जिला पंचायत श्री संदीप केरकेट्टा, अपर कलेक्टर श्रीमती जमुना भिड़े तथा जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

कलेक्टर ने बैठक में विभिन्न विभागों की योजनाओं कार्यक्रमों की समीक्षा की। राज्य शासन के निर्देशानुसार नीट तथा जेइ एग्जाम के लिए रतलाम जिले के विद्यार्थियों को उनके परीक्षा केंद्र तक पहुंचाने तथा वापस लाने के लिए वाहन व्यवस्था के निर्देश कलेक्टर द्वारा जिला परिवहन अधिकारी को दिए गए। जिले के विद्यार्थियों की सूची तैयार करने तथा लाने-ले-जाने की संपूर्ण व्यवस्था के लिए कलेक्टर द्वारा डिप्टी कलेक्टर श्री अभिषेक गहलोत, जिला परिवहन अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, सहायक आयुक्त जनजाति कार्य विभाग, जिला परियोजना समन्वयक की टीम बनाकर सफलतापूर्वक कार्य करने के निर्देश दिए।

बीपीएल हितग्राहियों को पात्रता पर्ची प्रदान करने के लिए 3 सितंबर को आयोजित कार्यक्रम की तैयारियों को लेकर कलेक्टर ने निर्देश दिए कि पात्र हितग्राहियों को राशन हेतु पात्रता पर्ची की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। नगर निगम तथा अन्य अधिकारियों द्वारा पात्रता पर्ची उपलब्ध कराने में विलंब संबंधी विभिन्न कारण बताए जाने पर कलेक्टर ने स्पष्ट कहा कि हमें परिणाम चाहिए, स्टोरी नहीं सुनाएं। इस दौरान समीक्षा में पाया गया कि जनपद पंचायत रतलाम ग्रामीण क्षेत्र में प्रगति अच्छी है परंतु फिर भी पेंडेंसी ज्यादा है। जनपद बाजना तथा सैलाना की प्रगति अपेक्षाकृत ठीक नहीं पाए जाने पर कलेक्टर द्वारा एसडीएम सैलाना को सघन मॉनिटरिंग के निर्देश दिए गए। जनपद पिपलोदा की सीईओ को सतत कार्य करने के निर्देश दिए गए। जनपद आलोट में सीईओ द्वारा आधार नंबर अनुपलब्धता की जानकारी दिए जाने पर जनपद क्षेत्र में स्थापित आधार जनरेट केंद्रों से दिन-रात काम किए जाने के निर्देश दिए गए। सीएम हेल्पलाइन में खाद्य विभाग की लंबी शिकायतों के निराकरण के लिए अधिकारी को प्रतिदिन मानिटरिंग करने, प्रतिदिन सुबह पोर्टल खोलने और दिन भर में शिकायतों के निराकरण के निर्देश दिए गए।

सीएम हेल्पलाइन में कलेक्टर द्वारा इस बात पर सख्त नाराजगी व्यक्त की गई कि कई विभागों में L1 स्तर पर शिकायतें अटेंड नहीं की गई है। कलेक्टर ने स्पष्ट कहा कि शिकायत अटेंड नहीं करने पर संबंधित अधिकारी के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी, वेतनवृद्धि रोकी जाएगी। यदि जिला अधिकारी द्वारा अधीनस्थ अधिकारी पर कार्यवाही नहीं की गई तो जिला अधिकारी के विरुद्ध कलेक्टर द्वारा कार्रवाई की जाएगी। इस तारतम्य में कलेक्टर द्वारा अधीक्षण यंत्री विद्युत तथा उपसंचालक कृषि के अधीनस्थ अधिकारियों को शोकॉज नोटिस जारी करने के निर्देश दिए गए। उपसंचालक कृषि को प्रतिदिन उनके विकासखंड स्तरीय अधिकारी से बात करने के लिए निर्देशित किया गया। 100 दिवस से लंबित शिकायतों के निराकरण के लिए ई-गवर्नेंस मैनेजर को प्रतिदिन संबंधित विभागों को मेल करने के निर्देश दिए गए।

कलेक्टर ने निर्देश दिए कि जिले में तेज वर्षा के दृष्टिगत हुए नुकसान की जानकारी सभी विभागों द्वारा अपर कलेक्टर को नोट कराई जाएं। कलेक्टर ने कहा कि जिले में तेज वर्षा के दौरान जिन क्षेत्रों में जल जमा हुआ है उनकी जानकारी संकलित की जाए। निश्चित रूप से अतिक्रमण के कारण जल का प्राकृतिक बहाव अवरुद्ध हुआ है, ऐसे अतिक्रमण स्थानों की जानकारी राजस्व अधिकारी उपलब्ध कराएं अतिक्रमण हटाए जाएंगे। साथ ही वर्षा के दौरान हुए नुकसान की प्रतिपूर्ति के लिए आरबीसी 6-4 में प्रकरण तैयार करने के निर्देश सभी राजस्व अधिकारियों को दिए गए।

जिले में कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने निर्देश दिए कि एसिंप्टोमेटिक पेशेंट के उपचार के लिए सैलाना के एकलव्य आवासीय विद्यालय परिसर को कोविड-केयर सेंटर बनाया जाएगा जहां रतलाम, बाजना, सैलाना के पेशेंट रखे जाएंगे। कलेक्टर द्वारा सीईओ जिला पंचायत तथा सीएमएचओ को स्थल निरीक्षण तथा आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए गए। इस दौरान जावरा एसडीएम ने बताया कि जावरा में 50 बेड सीसीसी तैयार है। नर्सिंग स्टाफ चाहिए बाकी संसाधन उपलब्ध है। कलेक्टर द्वारा सीएमएचओ को निर्देशित किया गया कि जावरा में टीम भेजी जाए, संपूर्ण तैयारी के साथ जावरा सीसीसी आरंभ करें।

जिले में वर्षाजनित बीमारियों की जानकारी लेने पर सीएमएचओ द्वारा बताया गया कि रिपोर्टिंग नहीं है, इस पर कलेक्टर ने कहा कि सक्रियता से कार्य करते हुए फीडबैक लेकर वर्षाजनित बीमारियों की रोकथाम का कार्य किया जाए। कलेक्टर द्वारा सभी कार्यालय प्रमुखों को निर्देशित किया गया कि वे अपने कार्यालय में पल्स ऑक्सीमीटर तथा नान कांटेक्ट थर्मामीटर रखें ताकि कोरोना से बचाव के लिए कार्यालयकर्मियों तथा कार्यालय में आने वाले व्यक्तियों का तापमान तथा ऑक्सीजन सैचुरेशन मापा जा सके।

वनाधिकार अधिनियम के तहत समीक्षा के दौरान कलेक्टर द्वारा पाया गया कि सैलाना क्षेत्र में अपेक्षित प्रगति नहीं मिली है, इस संबंध में ग्राम पंचायतों के सचिवों द्वारा कार्य नहीं किए जाने की जानकारी अधिकारियों द्वारा दी गई। कलेक्टर द्वारा निर्देशित किया गया कि जो ग्राम पंचायत सचिव कार्य नहीं करते हैं उनको निलंबित किया जाए। कलेक्टर द्वारा विभिन्न  अंतर विभागीय समन्वय के मुद्दों की जानकारी भी बैठक में ली गई। उन्होंने निर्देश दिए कि अंतर विभागीय मुद्दों पर पूर्व से ही समय सीमा पत्रों की बैठक में चर्चा कर ली जाए, उसके बाद ही नोटशीट चलाई जाए। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बीमित किसानों की समीक्षा करते हुए कलेक्टर द्वारा निर्देशित किया गया कि उपसंचालक कृषि, उपायुक्त सहकारिता तथा जीएम जिला सहकारी बैंक अपने अधिकतम स्टाफ को बीमा कार्य में लगाकर समय सीमा में कार्य पूर्ण करें, इस संबंध में सभी एसडीएम को भी निर्देशित किया गया। कलेक्टर द्वारा गणेश प्रतिमाओं के विसर्जन के संबंध में भी निर्देशित किया गया कि सम्मानजनक एवं सुव्यवस्थित ढंग से प्रतिमाओं का विसर्जन कराया जाए।