Home मध्यप्रदेश रतलाम: 874 स्थानों पर होगा होलिका दहन, रतलाम पुलिस ने कर रखी...

रतलाम: 874 स्थानों पर होगा होलिका दहन, रतलाम पुलिस ने कर रखी है यह तैयारियां, बाहर से भी आया बल, डीजीपी ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए दिए आवश्यक निर्देश

रतलाम,9मार्च(खबरबाबा.काम)/ होली पर्व को शांतिपूर्ण सम्पन्न कराने के लिए पुलिस प्रशासन ने व्यापक तैयारियां की है। सोमवार को डीजीपी द्वारा भी विडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से तैयारियों की समीक्षा की गई और आवश्यक निर्देश भी दिए गए।

विडियो कान्फ्रेंस मे पुलिस उपमहानिरीक्षक रतलाम रेंज गौरव राजपूत, पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी एवं अन्य पुलिस अधिकारी उपस्थित रहे।

यह निर्देश दिये गए :-

•हिस्ट्री शीटर, गुडां व असामाजिक तत्वो पर सतत निगरानी रखी जाकर आवश्यक होने पर प्रतिबंधात्मक कार्यवाही की जाये।

• संवेदनशील स्थानों पर ड्रोन के माध्यम से निगरानी रखी जाए।

• पुलिस मोबाइल और रिर्जव बल का अधिक से अधिक प्रयोग किया जावे।

• आवश्यकता होने पर तुरंत सख्त एक्शन लिया जाये।

रतलाम पुलिस की तैयारी

–  रतलाम पुलिस द्वारा होली पर्व को लेकर गंभीरता पूर्वक तैयारी की गई है। विगत वर्षों की घटनाओ को देखते हुए क्षेत्र में संवेदनशीलता को देखते हुए व्यवस्था लगाई गई है।

– सम्पूर्ण जिले मे कुल 874 होलिका दहन के स्थानों, 43 चूल के स्थानो को चिन्हित किया गया है. प्रत्येक स्थल पर पुलिस बल लगाया गया है।

– थाना मोबाइल, डायल 100 वाहन के साथ करीब 100 से अधिक वाहन अधिग्रहीत कर पुलिस मोबाइल पार्टी को रवाना किया गया है। जो व्यवस्था बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

– रतलाम शहर मे फिक्स पॉइंट के अतिरिक्त कुल 73 स्थानो पर पुलिस व्यवस्था लगाई गई है।

– जिला बल, SAF, होम गार्ड, एवं बाहर से आया बल मिला कर कुल लगभग 2500 का बल सम्पूर्ण जिले मे ड्यूटी में इस्तेमाल किया जा रहा है। जो सम्पूर्ण जिले मे आवश्यकता अनुसार वितरित किया जा चुका है।

-रिसर्व बल पूरे समय उपलब्ध रखा जायेग, जिनके पास बलवा सामग्री, टीयर गैस व अन्य सामाग्री भी रहेगी.

– कल दिनांक 10-3-2020 को शाम 5 बजे के बाद शराब पीकर वान चलाने वालो के विरुद्ध कार्यवाही भी की जायेगी।

– पूर्व मे विवादित स्थलो को चिन्हित कर उन स्थानो पर अस्थायी चौकियो ,सहायता केन्द्रो का निर्माण किया जा रहा है।

– थाना क्षेत्र के सभी होटल, लॉज, धर्मशाला, बस स्टैंड, वे स्टेशन की चेकिंग की जा रही है।

– आकस्मिक सेवाओ ( एम्ब्युलेन्स, फायर ब्रिगेड आदि) से समन्वय स्थापित किया गया है जिन्हे आवश्यकता होने पर,तुरंत उपयोग किया जायेगा।