Home Uncategorized लक्ष्मी और सरस्वती का मेल मुश्किल ,अटलजी के संस्मरण सुनते हुए साहित्यकार सुरेश...

लक्ष्मी और सरस्वती का मेल मुश्किल ,अटलजी के संस्मरण सुनते हुए साहित्यकार सुरेश आनन्द ने कहा । 

रतलाम,20अगस्त(खबरबाबा.काम) । अटलजी के बारे में क्या कहूँ , वे ज्ञान के समुद्र और स्वयं शब्दकोश थे । मेरा भी जन्म ग्वालियर में हुआ है । साहित्य से जुड़ाव होने और साहित्य परिषद की गतिविधियों में लगे होने से अटलजी से मिलना होता था । राजनीति हो या साहित्य या फिर धर्म वे हमेशा मार्गदर्शक की भूमिका में ही नजर आते रहे है । उनकी रचनाओं में भी तीखे प्रहार होते थे जो देश को सर्वोपरि रख कर शब्दो से बहुत कुछ कहते थे ।

उक्त बात व्योवर्द्व  साहित्यकार “सुरेश आनन्द”  ने    “ख़बरबाब  ” से चर्चा करते हुए कही । दर्जनों मौलिक पुस्तको के रचयिता साहित्यकार सुरेश आनन्द बताते है अटलजी ने अपनी समस्याएं , शायद किसी से सांझा नही की होगी , लेकिन दुसरो की समस्याओं के लिये स्वयं जूझना उनकी आदत में शुमार होता था । प्रधानमंत्री पद जैसे शिखर पर पहुंचने पर भी आम आदमी बन कर जिये , उनका रचनाधर्म लगातार चलता रहा । हर पत्र का वे उत्तर देते थे , उन्होंने कई  बार मुझे पत्र भेजे लेकिन प्रधानमंत्री पद के लेटर हेड का इस्तेमाल करने से हमेशा बचते रहे ,  पत्र पर नीजि सहायक के नही वे स्वयं हस्ताक्षर करते थे । पद से बड़ा उनका दृष्टिकोण , सज्जनता और संवेदनाएं थी । हर पत्र में वे साहित्य को लेकर मार्गदर्शन देते थे । मेरी ” सरहद के आदमी ” और ” चेहरे पर चहरे ” प्रकाशित पुस्तक पर मुझे 3 मार्च 2005 को पत्र भेजा था , इस पत्र में भी उन्होंने मार्गदर्शन देते हुए लिखा था साहित्य साधना सदियों से कठिन मार्ग रहा है । सरस्वती और लक्ष्मी का मेल मुश्किल है । मेरी कईं प्रकाशित पुस्तको पर वे पत्र भेजना नही भूलते थे । ऐसे कुशल मार्गदर्शक कविह्र्दय का निधन ऐसी क्षति है जिसे मै तो शब्दो मे भी  बयां नही कर सकता हूँ । अब तो शब्द भी रूढ़ गए है ।