Home Uncategorized शुक्र पुष्य पर बाजार में बरसेगा धन, खरीदी अति शुभ,यह काम करने...

शुक्र पुष्य पर बाजार में बरसेगा धन, खरीदी अति शुभ,यह काम करने से घर में आएगी समृद्धि…

रतलाम(खबरबाबा.काम)। झिलमिलाहट और उत्साह के पर्व दीपावली के पहले शुक्रवार को बाजार में धन वर्षा की संभावना है। शुक्रवार को पुष्य नक्षत्र होने से हजारों की संख्या में ग्राहकों द्वारा खरीदी की जाएगी। ग्राहकों को लुभाने के लिए बाजार भी सज संवर कर तैयार हैं। सोना-चांदी, रत्न-आभूषण, कपड़े, इलेक्ट्रानिक्स, वाहन, बरतन, सजावटी आईटम से लेकर खाने-पीने के सामान और मेवा मिष्ठान तक के व्यापारियों ने कहीं कीमतों में घटाव तो कहीं लुभावने ऑफरों की बौछार की है।
इस बार पुष्य नक्षत्र और धनतरेस में जमकर धनवर्षा होने का अनुमान लगाया जा रहा है। शहर में दिपावली की रौनक सप्ताहभर पहले से ही सज चुकी है। सराफा, कपड़ा, बर्तन और इलेक्टॉनिक सामानों में पिछले साल की तुलना के मुकाबले इस बार अधिक खरीदारी होने का अनुमान लगाया जा रहा है। कारोबारियों की माने तो शहर में दिवाली में करोड़ों का व्यवसाय होगा।
आज खरीदी अति शुभ
पंडितों के अनुसार पुराणों में भी पुष्य नक्षत्र में नई वस्तु की खरीदी को शुभ माना गया है। इसके साथ ही सर्वार्थसिद्धि योग भी है। मान्यता है कि पुष्य नक्षत्र और स्थिर लग्न तथा सर्वार्थ सिद्धि योग में खरीदी गई वस्तु घर में सुख-शांति और समृद्धि लाती है। इस मान्यता के कारण दीपावली के पहले की खरीदी अधिकांश लोग इसपर खरीदी करते हैं। पंडित संजय दवे के अनुसार 13 अक्टूबर को पुष्य नक्षत्र सुबह 7.45 से लगेगा। सुबह 9 बजे से दोपहर 1. 30 तक अमृत चौघडयि़ा है। इस समय दोपहर 1. 30 से सोनेे.चांदी, घर की बुकिंग, फर्नीचर, इलेक्टानिक सहित अन्य सामानों की खरीदारी की जा सकती है। योग 14 अक्टूबर की सुबह तक रहेगा।
तो घर में आएगी समृद्धि
पंडितों के अनुसार पुष्य नक्षत्र में खरीदी के साथ माता महालक्ष्मी, घर में रखी अलमारी और झाड़ू आदि की पूजा भी की जानी चाहिए। शुभ योग में सफाई और पूजन करने से भी घर में समृद्धि आती है। इसके साथ ही अध्य्यन का काम करना भी इस योग में बहुत शुभ होता है।
आगे भी आएंगे शुभ योग
15 अक्टूबर को यमघंट योग सूर्योदय से दूसरे दिन तक
17 अक्टूबर को धन तेरस अबूझ मुहूर्त
18 अक्टूबर को रुप चतुर्दशी व सर्वार्थसिद्धि 6.38 से अगले दिन सुबह 6.38 बजे तक
19 अक्टूबर को लक्ष्मी पूजन स्वयं सिद्ध मुहूर्त।