Home मध्यप्रदेश सीएम ने कहा-प्रदेश में इस माह के अंत तक कोरोना पॉजिटिविटी शून्य...

सीएम ने कहा-प्रदेश में इस माह के अंत तक कोरोना पॉजिटिविटी शून्य करें, अगले माह से जीवन सामान्य करना है, काम धंधे चालू करने हैं, “ब्लैक फंगस” रोग मध्यप्रदेश में महामारी घोषित

भोपाल,21मई(खबरबाबा.काम)/ मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इस माह के अंत तक प्रदेश के सभी जिलों में कोरोना पॉजिटिविटी शून्य करना है, जिससे अगले माह से प्रदेश में जन-जीवन सामान्य कर सकें तथा काम धंधे चालू हो सकें।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के सभी ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में एग्रेसिव टेस्टिंग करें। कॉन्ट्रेक्ट ट्रेसिंग करें तथा माइक्रो कंटनमेंट जोन बनाएं। कोरोना के एक-एक मरीज को ढूंढ़ निकालें, उसका इलाज करें तथा कोरोना संक्रमण को पूरी तरत समाप्त करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ब्लैक फंगस को महामारी घोषित किया जाता है। इस  बीमारी के उपचार की अच्छी से अच्छी व्यवस्था हो, जिन मरीजों का ऑपरेशन हुआ है, उन्हें इंजेक्‍शन ‘एम्फोटैरिसिन बी’ मिल जाए, यह सुनिश्चित किया जाए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज निवास से वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सांरग सहित सभी प्रभारी मंत्री, प्रभारी अधिकारी तथा संबंधित उपस्थित थे।

4384 नए प्रकरण

प्रदेश में कोरोना के 4384 नए प्रकरण आए हैं। पिछले 24 घंटों में 9405 मरीज स्वस्थ हुए हैं। एक्टिव प्रकरणों की संख्या 67625 है, साप्ताहिक पॉजिटिविटी 8.2% है तथा आज की पॉजिविटी 5.6% है। आज की टेस्टिंग 78 हजार है। साप्ताहिक नए प्रकरणों की संख्या 40 हजार 411 है।

10 जिलों में 100 से अधिक प्रकरण

प्रदेश के 10 जिलों में 100 से अधिक प्रकरण हैं। इंदौर में 937, भोपाल में 609, जबलपुर में 279, रीवा में 148, रतलाम में 146, उज्जैन में 127, अनूपपुर में 126, शिवपुरी में 114, सागर में 110 तथा ग्वालियर में 105 नए प्रकरण आए हैं।

5 जिलों में ही 10% से अधिक पॉजिटिविटी

आज प्रदेश के 5 जिलों में ही 10%  से अधिक  पॉजिटिविटी है। सर्वाधिक भोपाल जिले में 15%, इंदौर में 13% रीवा में 13%, उज्जैन में 12% तथा अनूपपुर जिले में 11% पॉजिटिविटी है।

17 जिलों में 5 प्रतिशत व कम पॉजिटिविटी

प्रदेश के 17 जिलों छतरपुर, टीकमगढ़, दतिया, मुरैना, गुना, श्योपुर, अशोकनगर, छिंदवाड़ा, हरदा, भिंड, बुरहानपुर, मंडला, झाबुआ, निवाड़ी अलीराजपुर, खंडवा तथा बड़वानी में साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 5 प्रतिशत से कम है।

आई. सी. यू. बैड्स बढ़ाएँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नरसिंहपुर एवं कटनी जिले की समीक्षा के दौरान निर्देश दिये कि वहाँ आईसीयू बैड्स बढ़ाए जाएँ। तीसरी लहर की तैयारी के लिए बच्चों का वार्ड बनाया जाए। कोरोना संक्रमण समाप्त करने के लिए ग्राम, शहर तथा जिला स्तरीय समितियाँ पूरी सक्रियता से कार्य करें। नरसिंहपुर जिले की कोरोना ग्रोथ रेट 0.8%, साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 6% तथा आज की पॉजिटिविटी दर 2.5% है। वहाँ प्रतिदिन औसत 83 प्रकरण आ रहे हैं। कटनी जिले  की कोरोना ग्रोथ रेट 0.8%, साप्ताहिक पॉजिटिविटी 7.2%, आज की पॉजिटिविटी दर 3.6% है। आज कोरोना में 52 नए प्रकरण आए हैं।

मंडला जिले की आज की पॉजिटिविटी एक प्रतिशत से कम

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंडला जिले की समीक्षा के दौरान कहा कि मंडला में आज की पॉजिटिविटी दर 0.9% रही है, 1050 टेस्ट में केवल 9 प्रकरण पॉजिटिव आए हैं। इसके लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रभारी मंत्री सहित पूरे अमले को बधाई दी तथा कहा कि जल्दी से जल्दी जिले को पूर्णत: संक्रमण मुक्त किया जाए।

मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के 6294 मरीजों का नि:शुल्क उपचार

मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के अंतर्गत प्रदेश के सम्बद्ध निजी अस्पतालों में 6294 मरीजों का नि:शुल्क इलाज किया जा रहा है। इन पर आज की स्थिति में 8 करोड़ 13 लाख 61 हजार रूपये की राशि व्यय की गई है। इसके अलावा शासकीय अस्पतालों में 11 हजार 614 मरीजों तथा अनुबंधित अस्पतालों में 2220 मरीजों का नि:शुल्क इलाज किया जा रहा है।

130 मरीजों के परिजनों को एक करोड़ से अधिक राशि वापस

प्रदेश में अस्पतालों द्वारा अधिक शुल्क वसूलने पर उनके विरूद्ध कारवाई करते हुए 130 मरीजों के परिजनों को एक करोड़ रूपये से अधिक की राशि वापस दिलाई गई है। नकली दवा बेचने और कालाबाजारी करने पर 75 व्यक्तियों के विरूद्ध अपराधिक प्रकरण दर्ज कर कारवाई की गई है।

10 प्रतिशत ऑक्सीजन उद्योगों को दें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि प्रदेश में ऑक्सीजन की अतिरिक्त उपलब्धता हो गई है, अत: उपलब्ध ऑक्सीजन की 10% ऑक्सीजन उद्योगों के उपयोग के लिए दी जाए।

रेमडेसिविर की अतिरिक्त उपलब्धता

स्वास्थ्य आयुक्त श्री  आकाश त्रिपाठी ने बताया कि प्रदेश में रेमडेसिविर इंजेक्शन की अतिरिक्त उपलब्धता हो चुकी है। इसकी डिमांड बहुत कम हो गई है।