Home रतलाम स्वच्छता सर्वेक्षण के परिणामों के बाद बारिश ने भी खोली नगर...

स्वच्छता सर्वेक्षण के परिणामों के बाद बारिश ने भी खोली नगर निगम की सफाई व्यवस्था की पोल, बारिश के बाद शहर के कई क्षेत्रों का हाल हुआ बेहाल, सड़कों पर फैला नालियों का कचरा और गंदगी, बदबु से लोग हुए परेशान, कई क्षैत्रों में पेड़ और टहनियां गिरी

रतलाम,24जून(खबरबाबा.काम)। शनिवार दोपहर को आए स्वच्छता सर्वेक्षण के परिणामों ने जहां रतलाम शहर की सफाई व्यवस्था की स्थिति को बंया कर दिया ,वहीं बची-कुची पोल रात में हुई बारिश ने खोल दी। शनिवार-रविवार रात हुई बारिश के बाद शहर के कई क्षेत्रों में हालत बदतर हो गए। नालियों का कचरा और कीचड़ सड़क पर आ गया और रविवार को लोग गंदगी और बदबु से परेशान होते रहे। रविवार सुबह शहर के कई क्षैत्रों की जो स्थिति देखने को मिली वह नगर निगम की मानसून पूर्व की तैयारियों को बताने के लिए काफी है। बीती रात हुई बारिश में शहर में कुछ स्थानों पर पेड़ और टहनियां भी गिरी, वही हर बार की तरह बिजली व्यवस्था भी बाधित रही ,जिससे लोग काफी परेशान हुए।

सफाई अभियान के तहत 70 लाख रुपए खर्च करने के बाद भी नगर निगम स्वच्छता सर्वेक्षण में पिछले वर्ष से बेहतर प्रदर्शन करना तो दूर, पिछले वर्ष की स्थिति पर भी नहीं टिक पाया,बल्कि स्वच्छ शहरों की सूची में पिछले वर्ष के 48 वें स्थान से हटकर रतलाम 72 वें स्थान पर पहुंच गया है। स्वच्छता सर्वेक्षण के परिणामों से शहर में सफाई अभियान के तहत जमीनी स्तर पर हुए कार्यों का खुलासा हो गया है ,वही रात में हुई बारिश ने शहर में सफाई व्यवस्था की पूरी स्थिति बयां कर दी है। बारिश के दौरान जाम पड़े नाले और नालियों का पानी, कचरा और किचड़ सड़कों पर आ गया । दोबत्ती क्षेत्र ,चौमुखी पूल, खेरादी वास,अंजता टाकीज रोड, माणकचौक सहित कई क्षेत्रों में बारिश से नाली का कचरा सड़क पर आ कर पड़ा रहा और इसकी बदबू से लोग परेशान होते रहे,लोगों को नाक-मुंह पर रुमाल रख कर निकलना पड़ा । शहर में कई स्थानों पर कीचड़ ने सड़कों को पैदल और वाहन से चलने लायक भी नहीं छोड़ा ,वहीं शहर में जिन स्थानों पर खुदाई करने के बाद रिपेयरिंग नहीं की गई वहां भी हालत बदतर दिखे। मानसून के पूर्व की इस स्थिति को देखकर आम जन के मन में भी आशंका है कि नालो नालियों की सफाई नही होने , खुदी सड़कों के ठीक नहीं होने और सड़को पर पड़े मलबे के नही उठने पर आने वाले दिनों में तेज बारिश के दौरान फिर सड़के तालाब बनेगी ओर जल भराव एंव किचड़ से शहर का जन जीवन प्रभावित होगा ।

पेड़ और टहनियां गिरी
मानसूनी पहली बारिश और तेज हवा ने शहर की सूरत ही बदल कर रख दी । तेज हवा से कस्तूरबा नगर , शास्त्री नगर , डाट की पुलिया सहित कुछ क्षेत्रों में पेड़ और टहनिया गिरने की सूचना है, जिससे सड़क पर जाम की स्थिती बनी रही । डाट की पुल पर डीआरएम आफिस के सामने पेड़ गिरने के बाद रविवार सुबह दोपहिया वाहन चालक पेड़ के नीचे से निकलते रहे । पैलेस रोड पर हनुमान मंदिर के पास लगा एक बड़े पेड़ की टहनी टूट कर मन्दिर पर गिर गई जिससे मन्दिर की दीवार क्षतिग्रस्त हो गई ।

उमस से लोग हुए परेशान
शनिवार – रविवार की दरमियानी रात करीब आधे घण्टे तक तेज बारिश होने से गर्मी से राहत मिली है । लेकिन रविवार दिन भर उमस भरी गर्मी ने नागरिको को परेशान किया ।

बारिश आते ही बिजली गुल
हर बार की तरह शनिवार-रविवार रात को भी बारिश शुरु होते ही शहर के कई क्षेत्रों में बिजली गुल हो गई। लोग उमस और गरमी से परेशान होते रहे। बिजली कंपनी ने बारिश पूर्व मेंटनेस के नाम पर शहर के सभी क्षेत्रों में कटौती कर मेंटनेस किया था, लेकिन हल्की बारिश या हवा चलने पर ही शहर के कई क्षेत्रों में बिजली बंद हो जाती है, सबसे बड़ी बात यह है कि बिजली जाने के बाद बिजली कंपनी के कार्यालय या चौकी पर फोन करने पर कोई रिस्पांस नहीं मिलता है। कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान भी बिजली कंपनी के अधिकारियों पर नाराजगी जाहिर कर व्यवस्था सुधारने के निर्देश दे चुकी है, लेकिन कलेक्टर के निर्देशों का भी कोई असर नहीं हुआ है। कुल मिलाकर बिती रात हुई बारिश ने नगर निगम और बिजली विभाग की व्यवस्थाओं को पोल खोलकर रख दी है और यदि अब भी व्यवस्थाएं नहीं सुधरी तो आने वाले दिनों में जनता को और मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है और यदि जनता को मुश्किलों का सामना करना पड़ा तो आने वाले चुनाव में इसका खामियाजा जनप्रतिनिधियों को भुगतना पड़ सकता है।

—–