Home रतलाम 26,27,28 नवम्बर को सेक्टर अधिकारियों की भूमिका महत्वपूर्ण ,निर्विघ्न निर्वाचन के लिए...

26,27,28 नवम्बर को सेक्टर अधिकारियों की भूमिका महत्वपूर्ण ,निर्विघ्न निर्वाचन के लिए सेक्टर अधिकारी सजगता के साथ कार्य करें।सेक्टर तथा पुलिस अधिकारियों की बैठक में जिला निर्वाचन अधिकारी ने दिए निर्देश

रतलाम 18 नवंबर (खबरबाबा. काम) । विधानसभा निर्वाचन 2018 में तैनात सेक्टर अधिकारियों की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है। जिले के सेक्टरों में तैनात सेक्टर अधिकारी तथा पुलिस अधिकारी निर्विघ्न निर्वाचन के लिए सजगता के साथ कार्य करें। खासतौर पर 26, 27 तथा 28 नवंबर को सेक्टर अधिकारियों की भूमिका सबसे अहम होगी।

 

यह निर्देश कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती रुचिका चौहान ने आज जिले के सेक्टर अधिकारियों तथा पुलिस अधिकारियों की संयुक्त बैठक में दिए। इस दौरान पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी, अपर कलेक्टर श्री जितेंद्र सिंह चौहान तथा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री प्रदीप शर्मा ने भी अधिकारियों को निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण निर्वाचन संपन्न कराने के लिए महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश दिए। इस अवसर पर उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री प्रवीण कुमार फुलपगारे, संयुक्त कलेक्टर सुश्री निशा डामोर,श्री रणजीत कुमार तथा डिप्टी कलेक्टर श्रीमती कामिनी ठाकुर भी उपस्थित थे।

अधिकारियों को जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती रुचिका चौहान ने सेक्टर में भ्रमण से लेकर मतदान सामग्री वितरण, मतदान केंद्रों को तैयार करने, मतदान दलों की वापसी,सामग्री जमा होने तक की जाने वाली कार्रवाइयों के लिए, दिशा-निर्देश दिए। जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि मतदान दलों को 27नवंबर को मतदान सामग्री वितरित की जाएगी। रतलाम शहर तथा रतलाम ग्रामीण विधानसभा क्षेत्रों के मतदान कर्मियों को रतलाम से सामग्री वितरित की जाएगी। इसी प्रकार सैलाना, जावरा तथा आलोट विधानसभा क्षेत्रों के लिए सैलाना,जावरा, आलोट से सामग्री वितरण होगा। सेक्टर अधिकारी समय पर सामग्री वितरण स्थलों पर पहुंच जाएं। सामग्री सुबह 7 बजे से वितरित की जाएगी। अपने सेक्टर के मतदान दलों की अटेंडेंस लेवे। उनको संपूर्ण सामग्री प्राप्त हो जाये, यह सुनिश्चित करें। मतदान दलों को ले जाने वाली बसों पर रूटचार्ट तथा संबंधित अधिकारियों के संपर्क नंबर चस्पा किए जाएंगे। मतदान दिवस पर मतदान केंद्र में मॉकपोल के पश्चात ईवीएम को क्लियर करना है। साथ ही वीवीपेट से भी मॉकपोल की पर्चियां निकलवा कर सील करवाना है। सेक्टर अधिकारी अपने रिटर्निंग अधिकारी तथा जिला कंट्रोल रूम को मॉकपोल की सूचना तथा दो-दो घंटे में मतदान की रिपोर्टिंग करेंगे।

जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती चौहान ने बताया कि जिले के सभी विधानसभा क्षेत्रों के मतदान दल मतदान के पश्चात सामग्री रतलाम के आर्ट्स एंड साइंस कॉलेज में जमा करवाएंगे। सुविधा के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र की कलर कोडिंग की जाएगी जिससे मतदान दल अपनी विधानसभा क्षेत्र की सामग्री सही काउंटर पर जमा कर सकें। सेक्टर अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि उनके क्षेत्र के मतदान दल द्वारा संपूर्ण सामग्री चेक लिस्ट के अनुसार जमा कर दी गई है। वे रिटर्निंग अधिकारी से रिलीविंग लेटर लेने के पश्चात ही वापस जा सकेंगे। जिला निर्वाचन अधिकारी ने सेक्टर अधिकारियों को बताया कि मतदान दिवस पर अभ्यर्थी को केवल तीन वाहन की अनुमति होगी। एक वाहन अभ्यर्थी के लिए, एक उसके एजेंट के लिए तथा एक अन्य वाहन अभ्यर्थी के कार्यकर्ताओं हेतु रहेगा। प्रत्येक वाहन में 5 से अधिक व्यक्ति नहीं बैठ सकेंगे, वाहनों पर अनुमति चस्पा रहेगी।

बैठक में सेक्टर अधिकारियों के अलावा उपस्थित पुलिस अधिकारियों को निर्देशित करते हुए पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी ने कहा कि सेक्टरों में तैनात पुलिस अधिकारी अपने दल के साथ सतर्क रहते हुए ड्यूटी करें। कोई भी कॉल आने पर तत्काल फोन अटेंड करें, अन्यथा उनके विरुद्ध  कड़ी कार्रवाई की जाएगी। खासतौर पर मतदान दिवस के दौरान वे अपने मोबाइल पर अत्यंत आवश्यक होने पर ही अन्य व्यक्तियों को कॉल करें। किसी भी ज्ञात-अज्ञात काल को अटेंड कर इस दौरान सोशल मीडिया फेसबुक,व्हाट्सएप नहीं चलाएं। कोई भी घटना होने पर तत्काल अपने क्षेत्र के थाना प्रभारी, एसडीएम,एसडीओपी, तहसीलदार आदि को सूचित करें। पुलिस अधिकारी माइक द्वारा धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेशों को प्रसारित करते रहे। अवैध वाहनों के विरुद्ध कार्रवाई की जाए। दल के साथ वायरलेस सेट हो। मतदान केंद्र पर मतदान के पश्चात कोई भी मतदाता वहां उपस्थित नहीं रहे। मतदान केंद्र में उपस्थित राजनीतिक एजेंट के पास मोबाइल नहीं हो पुलिस अधिकारी कभी भी मतदान केंद्र से दूर नहीं जाए। पुलिस अधीक्षक ने निर्देश दिए कि मतदाताओं को प्रलोभन देने के लिए विभिन्न सामग्रियों को ऐसे स्थानों पर स्टोर किया जा सकता है जिन पर सामान्यतः ध्यान नहीं दिया जाता है। अतः ऐसे भवनों को पूर्व समय-सीमा में चेक कर ले। होटल, ढाबों, लाज, फार्म हाउस आदि चेक कर लिए जाएं।