Home मध्यप्रदेश अन्य राज्यों में फंसे जिले के मजदूरों हेतु रहने खाने की व्यवस्था...

अन्य राज्यों में फंसे जिले के मजदूरों हेतु रहने खाने की व्यवस्था का कार्य निरंतर जारी, बुधवार को 238 मजदूरों के लिए व्यवस्थाएं करवाई गई

रतलाम 2अप्रैल 2020/ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के निर्देश के पालन में जिला प्रशासन द्वारा अन्य राज्यों में विभिन्न स्थानों पर लॉक डाउन में फंसे रतलाम जिले के मजदूरों हेतु रहने, खाने की व्यवस्थाओं का कार्य निरंतर किया जा रहा है। बुधवार को भी जिले के ऐसे 238 मजदूरों के लिए व्यवस्थाएं करवाई गई जो गुजरात तथा राजस्थान में मजदूरी के लिए गए थे परंतु लॉक डाउन में फंसे होने के कारण लौट नहीं पाए हैं।

कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने बताया कि बुधवार को जिले के शिवगढ़, सैलाना क्षेत्र के 60 मजदूरों की व्यवस्थाएं राजस्थान जैसलमेर जिले के पोखरण में करवाई गई। मजदूर साकड़ा रोड पर कृषि कार्य में मजदूरी कर रहे थे परंतु लॉक डाउन में फंसे हैं। इसी तरह सैलाना के सकरावदा क्षेत्र के 20 मजदूरों के लिए रामगढ़ जैसलमेर में व्यवस्था करवाई गई है। रतलाम ग्रामीण के जामदुल गांव के 36 से मजदूर जो गुजरात के मोरबी क्षेत्र के दुआ गांव में हैं उनके लिए रहने, खाने की व्यवस्था वहां के प्रशासन से चर्चा करके करवाई गई है। गुजरात के तापी जिले के कुकरमुंडा में बाजना के ठीकरिया गांव के बीच मजदूरों की व्यवस्था करवाई गई है। इसके अलावा बाजना क्षेत्र के ही गढ़ीकटाराखुर्द तथा कुंदनपुर गांव के 70 मजदूर जो राजस्थान प्रतापगढ़ के पीपलकोटा में है उनके लिए उसी स्थान पर रहने, खाने की व्यवस्था करवाई गई है। इसके अलावा ताल क्षेत्र के माल्याखेड़ी गांव के 17 मजदूरों के लिए गुजरात के मोरबी के बाकानेर में ठहरने, भोजन इत्यादि की व्यवस्था करवाई गई है।

संयुक्त कलेक्टर श्री एम.एल. आर्य द्वारा कलेक्टर के निर्देश पर जिले के फसे हुए ऐसे मजदूरों के लिए सतत उन राज्यों के जिला प्रशासन से टेलीफोन संपर्क किया जाकर व्यवस्थाएं करवाई जा रही हैं। मंगलवार को भी रतलाम जिले के शिवगढ़, उंदीपाड़ा, नायन इत्यादि गांवों के 297 मजदूरों के लिए गुजरात, राजस्थान, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश जैसे राज्यों में व्यवस्था करवाई गई थी। यह कार्य निरंतर जारी है।

(फाइल फोटो)