Home रतलाम रतलाम जिले में कानुन-व्यवस्था की स्थिति अच्छी, पिछले दो वर्षो की तुलना...

रतलाम जिले में कानुन-व्यवस्था की स्थिति अच्छी, पिछले दो वर्षो की तुलना में हत्या, उपद्रव, छेड़छाड़ सहित अन्य गंभीर अपराधों में आई कमी

रतलाम(खबरबाबा.काम)। जिले में पिछले तीन सालों में थानों में दर्ज अपराधों का विश्लेषण किया जाए तो आकंड़े रतलाम पुलिस को राहत देने वाले है। आंकड़ो के अनुसार जिले में कानुन-व्यवस्था की स्थिति काफी अच्छी है। पिछले दो वर्षो के जनवरी से नवम्बर तक के अपराधों की तुलना में वर्तमान वर्ष याने वर्ष 2017 में जिले में गंभीर अपराधों में कमी आई है। हत्या, हत्या का प्रयास,लूट, चोरी, छेड़छाड़, दुष्कर्म जैसे मामलो में कमी आई है।
वर्ष 2015 और 2016 की तुलना में वर्ष 2017 में जनवरी से नवम्बर तक के 11 महीनों में अधिकांश गंभीर अपराधों में कमी आई है। वर्ष 2016 के आकड़ों से ही तुलना की जाए तो हत्या के मामलों में इस वर्ष अभी तक 12.5 प्रतिशत, हत्या के प्रयास में 47 प्रतिशत, चोरी में 14 प्रतिशत, उपद्रव के मामलो में 27 प्रतिशत, दुष्कर्म के मामलो में 29 प्रतिशत तक की कमी आई है। चेन लूट की वारदाते जरुर पिछले वर्षो की तुलना में दुगनी हुई है। वर्ष 2015, 2016 में चेन लूट की 3 वारदाते हुई थी, जबकि इस वर्ष चेन लूट की सात वारदातें हो चुकी है। कुल अपराधों की बात करें तो उसमें भी वर्ष 2016 की तुलना में 29 प्रतिशत की कमी आई है।
पुलिस अधीक्षक के अभियान का भी असर
पुलिस अधीक्षक अमित सिंह के सुरक्षीत-बालिका, सुरक्षीत रतलाम अभियान का असर भी देखने को मिला है। पिछले दो वर्षो की तुलना में छेड़छाड़ के मामलो में 27 प्रतिशत तक की कमी आई है।
पुलिस कार्रवाई में हुई वृध्दी
एक और तीन वर्षो के तुलनात्मक विश्लेषण में वर्तमान वर्ष में अपराधों में कमी आई है, वहीं माइनर एक्ट में पुलिस कार्रवाई में बढोत्तरी भी हुई है। एनडीपीएस एक्ट के खिलाफ पुलिस ने पिछले दो वर्षो की तुलना में ज्यादा कार्रवाई की गै। वर्ष 2015 में 14 और 2016 की तुलना में 16 के बदजले 2017 में एनडीपीएस एक्ट की पुलिस ने 34 कार्रवाई की है। मोटर व्हीकल एक्ट में भी बडोत्तरी हुई है। आम्र्स एक्ट में पुलिस की कार्रवाई पीछे है,. वहीं सट्टा एक्ट में भी कार्रवाई बढी है।
तीन वर्षो के अपराधों की तुलनात्मक स्थिति(जनवरी से नवम्बर माह तक)
अपराध वर्ष 2015 वर्ष 2016 वर्ष 2017

हत्या 33 32 28
हत्या का प्रयास 51 66 35
डकैती 2 2 1
लूट 31 34 18
चेन लूट 3 3 7
अपहरण 155 202 200
चोरी 156 159 136
वाहन चोरी 191 189 183
दुष्कर्म 72 96 69
उपद्रव 43 41 30
छेड़छाड़ 165 229 169
कुल अपराध 5383 6767 4991